close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मनोज सिन्हा बोले, 'चुनाव गाजीपुर से ही लड़ूंगा, टिकट नहीं तो चुनाव नहीं'

उन्होंने कहा कि जनता एक बार फिर पीएम कुर्सी पर नरेंद्र मोदी को बैठाएगी. बीजेपी सपा-बसपा गठबंधन से डरी नहीं है. 

मनोज सिन्हा बोले, 'चुनाव गाजीपुर से ही लड़ूंगा, टिकट नहीं तो चुनाव नहीं'
उन्होंने कहा कि लोकसभा व विधानसभा के चुनाव में अंतर होता है, लोकसभा चुनाव में बीजेपी जीतेगी.

वाराणसी: वाराणसी पहुंचे रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि वह इस साल होनेवाला लोकसभा चुनाव वह गाजीपुर से लड़ेंगे, यदि गाजीपुर से टिकट नहीं मिला तो चुनाव नहीं लड़ेंगे. उन्होंने कहा कि हम पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में हारे और कांग्रेस जीती है, लेकिन लोकसभा चुनाव की बात अलग है. जनता एक बार फिर पीएम कुर्सी पर नरेंद्र मोदी को बैठाएगी. बीजेपी सपा-बसपा गठबंधन से डरी नहीं है. 

वाराणसी स्थित बीजेपी कार्यालय पहुंचे रेल राज्यमंत्री ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में वह गाजीपुर से ही चुनाव लड़ेंगे, यदि गाजीपुर से टिकट नहीं मिला तो चुनाव नहीं लड़ेंगे. वहीं, पीएम नरेंद्र मोदी के चुनाव लड़ने के सवाल पर मनोज ने कहा कि यह तय है कि पीएम मोदी के काशी में चुनाव जीतने के बाद पूर्वांचल को जो विकास कार्यों का लाभ मिला है, वह आगे भी जारी रहेगा.  

रेल राज्यमंत्री ने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार विकास के पथ पर देश को आगे लेकर गई है, जिसका परिणाम हुआ कि विश्व में भारतीय अर्थव्यवस्था ने फ्रांस को पीछे छोड़ दिया और 6वें स्थान पर पहुंच गई. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में 2019 के चुनाव में बीजेपी जीत हासिल करती है तो जल्दी ही इंग्लैंड को पीछे छोड़ विश्व की 5वीं अर्थव्यवस्था बन जाएगी. 

हाल ही में तीन राज्यों में मिली हार पर रेल राज्यमंत्री ने कहा कि विधानसभा चुनावों में बीजेपी हारी नहीं है, बल्कि वहां कांग्रेस जीत गई है. उन्होंने कहा कि लोकसभा व विधानसभा के चुनाव में अंतर होता है. जनता ने मन बना लिया है कि एक बार फिर पीएम की कुर्सी पर नरेंद्र मोदी को ही सौंपेंगे. 

सपा-बसपा गठबंधन पर मनोज सिन्हा ने कहा कि पूर्व के उदाहरणों को देख लें तो पता चल जाएगा कि इस बार भी गठबंधन का फेल होना तय है. उन्होंने कहा कि बंगाल की दीदी हों या फिर यूपी की बहन हों, सभी जानते हैं कि चुनाव बाद ये लोग किस प्रकार अपनी तलवारें खींच लेते हैं.