बांका की विरासत संभालने में जुटी अंतर्राष्ट्रीय शूटर श्रेयसी सिंह, मां के लिए मांग रही हैं वोट

श्रेयसी सिंह जब मंच पर भाषण देती हैं तो लोगों को ऐसा लगता है कि उनकी पिता पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वर्गीय दिग्विजय सिंह बोल रहे हैं.

बांका की विरासत संभालने में जुटी अंतर्राष्ट्रीय शूटर श्रेयसी सिंह, मां के लिए मांग रही हैं वोट
अपनी मां पुलुल कुमारी के लिए वोट मांग रही हैं श्रेयसी सिंह.

विकास चौधरी/बांका : बिहार के बांका संसदीय क्षेत्र से निर्दलीय प्रत्याशी पुतुल कुमारी की दोनों बेटियों ने चुनाव प्रचार का कमान संभाल लिया है. अंतर्राष्ट्रीय शूटर श्रेयसी सिंह और उनकी बड़ी बहन मानसी सिंह स्टार प्रचारक बनकर लोगों से अपनी मां के लिए वोट देने की अपील कर रही हैं. पुतुल कुमारी का मुकाबला राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) उम्मीदवार जयप्रकाश नारायण यादव और जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के उम्मीदवार गिरधारी यादव के साथ है.

पुतुल कुमारी अपनी दोनों बेटियों के साथ दर्जनों गांव में जनसंपर्क अभियान चला रही हैं. लोंगों से अपने पक्ष में वोट देने की अपील कर रही हैं. बांका ऐसी सीट है जहां निर्दलीय प्रत्याशी अपनी राजनीतिक विरासत के बूते इस वक्त मजबूत त्रिकोणीय मुकाबला बनाती दिख रही हैं.

श्रेयसी सिंह जब मंच पर भाषण देती हैं तो लोगों को ऐसा लगता है कि उनकी पिता पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वर्गीय दिग्विजय सिंह बोल रहे हैं. श्रेयसी का कहना है कि दादा का जो सपना अधूरा रह गया था वो मेरी मां पूरा करेगी. 

2014 में बीजेपी ने केंद्रीय मंत्री रह चुके दिवंगत दिग्विजय सिंह की पत्नी पुतुल कुमारी को अपना उम्मीदवार बनाया था, लेकिन वो आरजेडी के जयप्रकाश यादव से चुनाव हार गई थीं. 2014 से पहले बांका लोकसभा उपचुनाव में पुतुल कुमारी बतौर निर्दलीय प्रत्याशी चुनाव जीती थी. इस बार यह सीट जेडीयू के खाते में गई है. जेडीयू ने गिरधारी यादव को अपना उम्मीदवार बनाया है.

नाराज पुतुल कुमारी के समर्थकों ने दबाव बनाया और निर्दलीय चुनाव मैदान में उतरने का फैसला किया. बांका लोकसभा सीट पर दूसरे फेज में यानी 18 अप्रैल को मतदान होगा.

पुतुल कुमारी के पक्ष में चुनाव प्रचार की कमान उनकी बेटी अंतर्राष्ट्रीय शूटर श्रेयसी सिंह और बड़ी बेटी मानसी सिंह ने संभाल रखा है. दूसरी तरफ, जेडीयू उम्मीदवार गिरधारी यादव और आरजेडी उम्मीदवार जयप्रकाश नारायण यादव के पक्ष में बड़े-बड़े नेता, मंत्री प्रचार अभियान में जुटे हैं.