जावेद अख्तर का विवादित बयान, कहा- बुर्के के साथ राजस्थान में घूंघट पर भी लगे प्रतिबंध

उन्होंने बुर्के पर प्रतिबंध लगाने वाले बयान का समर्थन करते हुए राजस्थान में घूंघट पर भी प्रतिबंध लगाने की मांग की है. साथ ही जावेद अख्तर ने बीजेपी पर जमकर हमला बोला. 

जावेद अख्तर का विवादित बयान, कहा- बुर्के के साथ राजस्थान में घूंघट पर भी लगे प्रतिबंध
भोपाल में जावेद अख्तर ने दिया विवादित बयान. (फाइल फोटो)

भोपाल : मशहूर गीतकार जावेद अख्तर ने बुर्के और घूंघट को लेकर विवादित बयान दिया है. उन्होंने कहा कि सरकार बुर्के के साथ-साथ राजस्थान में घूंघट पर भी बैन लगाए. ज्ञात हो कि जावेद अख्तर गुरुवार को भोपाल पहुंचे थे. यहां उन्होंने विभिन्न राजनीतिक मुद्दों पर मीडिया के साथ बातचीत की. इस दौरान उन्होंने भोपाल से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि लोग गलत करके भी खुद को सही साबित करने पर तुले हुए हैं. यह भी कहा कि बीजेपी ने साध्वी प्रज्ञा को उतारकर खुद अपनी हार स्वीकार कर ली.

इस दौरान जावेद अख्तर ने कहा कि भोपाल में मेरा साढ़े चार साल का समय बीता है, मेरा रोम-रोम यहां का कर्जदार है. इस दौरान उन्होंने कहा कि 2019 का चुनाव देश के लिए महत्वपूर्ण है. जिस रास्ते पर भी देश जाएगा वह बहुत लंबा है. यह चुनाव तय करेगा कि मुल्क किस रास्ते पर जाएगा.

उन्होंने बुर्के पर प्रतिबंध लगाने वाले बयान का समर्थन करते हुए राजस्थान में घूंघट पर भी प्रतिबंध लगाने की मांग की है. साथ ही जावेद अख्तर ने बीजेपी पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा, 'अगर तुम हमारे साथ नहीं हो तो तुम एंटीनेशनल हो, बीजेपी की यही विचारधारा है. कई मोदी आएंगे और चले जाएंगे. देश है और रहेगा.'

इस दौरान उन्होंने कांग्रेस को भी नहीं बख्शा. जावेद अख्तर ने कहा कि 'चौकीदार चोर है' जैसे भाषा का मैं समर्थन नहीं करता हूं. साथ ही मैं राहुल गांधी को प्रधानमंत्री के रूप में नही देखता हूं. जावेद अख्तर ने साध्वी प्रज्ञा पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जब उनके श्राप से एक देशभक्त ऑफिसर शहीद हो सकता है तो ऐसे श्राप को राष्ट्रीय स्तर पर इस्तेमाल करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि मैं पीएम मोदी को यह सुझाव दूंगा कि इनके श्राप को हाफिज सईद और दूसरे आतंकियों पर इस्तेमाल करना चाहिए.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.