कैलाश विजयवर्गीय का ऐलान: 'बंगाल रहना कर्तव्य इसलिए चुनाव न लड़ने का लिया निर्णय'

विजयवर्गीय की इस घोषणा के बाद पूर्व मंत्री और उत्तरप्रदेश के लोकसभा चुनाव के सह प्रभारी डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा, कैलाश विजयवर्गीय के ऊपर इंदौर से बड़ी जिम्मेदारी पश्चिम बंगाल की है. 

कैलाश विजयवर्गीय का ऐलान: 'बंगाल रहना कर्तव्य इसलिए चुनाव न लड़ने का लिया निर्णय'
कैलाश विजयवर्गीय ने बुधवार को अपने चुनाव न लड़ने का ऐलान किया.

भोपाल: मध्यप्रदेश के बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान किया है. इस बात की पुष्टि उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट के माध्यम से की है. उन्होंने अपने ट्विटर पर एक ट्वीट करते हुए लिखा, 'इंदौर की जनता, कार्यकर्ता और देशभर के शुभचिंतकों की इच्छा है कि मैं लोकसभा चुनाव लड़ूं पर हमसभी की प्राथमिकता समर्थ, समृद्ध भारत के लिए नरेंद्र मोदी को फिर से PM बनाना है. पश्चिम बंगाल की जनता पीएम मोदी के साथ खड़ी है, मेरा बंगाल रहना कर्तव्य है, इसलिए मैंने चुनाव न लड़ने का निर्णय लिया है'.

साथ ही उन्होंने एक और ट्वीट करते हुए लिखा, 'BJP के प्रत्येक कार्यकर्ता का सिद्धांत है, नेशन फर्स्ट- पार्टी सेकेंड- सेल्फ लास्ट. जहां सवाल देशहित और पार्टी हित का हो वहां स्वयं का कोई महत्व नहीं रह जाता. हमारे सामने पश्चिम बंगाल में पार्टी को अधिकाधिक सीटे जिताने का लक्ष्य है, यह लक्ष्य जितना बड़ा है उतनी ही बड़ी चुनौती भी है'. 

वहीं विजयवर्गीय की इस घोषणा के बाद पूर्व मंत्री और उत्तरप्रदेश के लोकसभा चुनाव के सह प्रभारी डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा, कैलाश विजयवर्गीय के ऊपर इंदौर से बड़ी जिम्मेदारी पश्चिम बंगाल की है. वहीं उम्मीद कर रहे प्रत्याशियों को टिकट न मिलने पर निरोत्तम मिश्रा ने सफाई देते हुए कहा, टिकट किसी एक को मिलता है बाकी दावेदारों के मन मे कुछ समय के लिए खिन्नता आती है पर धीरे धीरे सब ठीक करेंगे.सब परिवार के ही लोग है.

साथ ही मध्यप्रदेश में लोकसभा चुनावों को लेकर निरोत्तम मिश्रा ने कहा, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हमारे नेता हैं और हम उन्ही के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ेंगे. जबकि नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री कमलनाथ पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार धोखेबाज है. 

वहीं बिजली के मुद्दे पर नाराज मुख्यमंत्री कमलनाथ पर पलटवार करते हुए निरोत्तम मिश्रा ने कहा, अगर अघोषित बिजली कटौती उन्हें षडयंत्र लग रहा है तो वह क्या कर रहे हैं. साथ ही कांग्रेस ने जनता से किए वादों को पूरा नहीं किया. प्रदेश में कर्जमाफी भी नहीं हुई. बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता भी नहीं मिल रहा है. लोग अब यह बात समझ चुके हैं. अब लोकसभा चुनाव में जनता कांग्रेस को सबक सिखाएगी.