close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव 2019 : आरएसएस का गढ़ है नागपुर, लेकिन कांग्रेस का रहा है दबदबा

हां से पहली बार भाजपा को 1996 में जीत हांसिल हुई थी और तब यहां से बनवारीलाल पुरोहित ने जीत दर्ज की थी.

लोकसभा चुनाव 2019 : आरएसएस का गढ़ है नागपुर, लेकिन कांग्रेस का रहा है दबदबा
संतरों के इस शहर को महाराष्ट की उप राजधानी के नाम से भी जाना जाता है और यह देश का 13वां सबसे बड़ा शहर है. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः महाराष्ट्र की नागपुर लोकसभा सीट 1951 के बाद अस्तित्व में आई थी और तब से लगातार इस सीट पर कांग्रेस का ही परचम लहराया है. नागपुर लोकसभा सीट पर 1952 से लेकर 1991 तक सिर्फ कांग्रेस का ही इस सीट पर राज था. आरएसएस गढ़ होने के बाद भी भाजपा को यहां से सिर्फ दो बार ही जीत हांसिल हो सकी है जबकी यहां से कांग्रेंस को 6 बार जीत मिली है. यहां से पहली बार भाजपा को 1996 में जीत हांसिल हुई थी और तब यहां से बनवारीलाल पुरोहित ने जीत दर्ज की थी. इसके बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में नितिन गडकरी को जीत मिली थी.

वायनाड सीट से कभी नहीं हारी कांग्रेस, लेकिन इस बार पार्टी के सामने है ये चुनौती

नागपुर लोकसभा सीट के अंतर्गत 6 विधानसभा सीट आती हैं.  संतरों के इस शहर को महाराष्ट की उप राजधानी के नाम से भी जाना जाता है और यह देश का 13वां सबसे बड़ा शहर है. यहां के जातीय समीकरण की बात करें तो यहां सवर्ण और दलित समु्दाय की जनसंख्या अधिक है. यहां के चनावों में हमेशा से ही सवर्णों का असर साफ साफ देखा जा सकता है. बता दें कि यहां कि सभी 6 विधानसभा सीटों पर मौजूदा समय में भाजपा का कब्जा है. 2011 की जनगणना के अनुसार नागपुर की कुल जनसंख्या 25 लाख है.

मुस्लिमों से दारुल उलूम के मुफ्ती की अपील, चुनाव नतीजों तक नमाज के बाद मांगें सामूहिक दुआ

महाराष्ट्र में बीजेपी के लिए नितिन गडकरी और देवेन्द्र फडणवीस दो ऐसे लोग हैं जिनके दम पर पार्टी ने अपनी पकड़ मजबूत की है. इसके साथ ही आरएसएस और अन्य हिंदू वादी संगठन की पकड मजबूत होने के कारण ऐसा माना जा रहा है कि 2014 की ही तरह इस बार भी इस सीट से भाजपा ही जीतेगी.बनवारी लाल पुरोहित महाराष्ट्र की राजनीति में एक ऐसे नेता है जिन्होंने 1984 और 1989 में कांग्रेस को जबकी 1996 में भाजपा को जीत दिलाई थी. लोकसभा चुनाव 2014 के मुताबिक यहां मतदाताओं की कुल संख्‍या 19 लाख 787 है, जिसमें 9 लाख 79 हजार 995 पुरुष और 9 लाख 20 हजार 792 महिलाएं हैं.