लोकसभा चुनाव 2019 नॉर्थ गोवा: चार बार से सांसद श्रीपाद नाईक को कौन दे रहा टक्कर!

नॉर्थ गोवा लोकसभा सीट कई मायनों में देश की काफी अहम सीट्स में गिनी जाती है. जिले का प्रशासनिक मुख्यालय पणजी है, जो कि गोवा राज्य की राजधानी भी है. 

लोकसभा चुनाव 2019 नॉर्थ गोवा: चार बार से सांसद श्रीपाद नाईक को कौन दे रहा टक्कर!

नई दिल्ली: गोवा प्रदेश में सबसे ज्यादा हिंदू आबादी वाली है उत्तर गोवा लोकसभा सीट. यह कई मायनों में देश की काफी अहम सीट्स में गिनी जाती है. जिले का प्रशासनिक मुख्यालय पणजी है, जो कि गोवा राज्य की राजधानी भी है. इस लिहाज से भी यह लोकसभी सीट खास हो जाती है. हालांकि पिछले 4 बार से यह सीट बीजेपी के नाम है. पिछले चार बार से उत्तर गोवा लोकसभा सीट से बीजेपी के श्रीपाद येसो नाईक जीतते आ रहे हैं. 

इस चुनाव में उत्तर गोवा लोकसभा सीट पर कांग्रेस पार्टी ने गिरीश राय चोडांकर, भारतीय जनता पार्टी ने श्रीपद येसो नाइक, रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (कंबल) ने अमित आत्माराम कोगांकर और आम आदमी पार्टी ने दत्तात्रेय पडगांवकर को चुनावी दंगल में उतारा है. इसके अलावा ऐश्वर्या अर्जुन सलगांवकर और भगवंत सदानंद कामत निर्दलीय उम्मीदवार बनकर मैदान में टक्कर दे हैं.

पिछले चुनाव यानी साल 2014 की बात करें तो उत्तर गोवा लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी के श्रीपद येसो नाईक ने जीत दर्ज की थी. 61 वर्षीय नाईक ने यहां लगातार चौथी बार लोकसभा चुनाव जीता था. नाईक मोदी सरकार में राज्यमंत्री भी हैं. उनको आयुष मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार सौंपा गया है. पिछले लोकसभा चुनाव में श्रीपाद येसो नाईक ने अपने करीबी प्रतिद्वंदी कांग्रेस पार्टी के रवि नाईक को एक लाख पांच हजार 599 वोटों के अंतर से करारी हार का मुह दिखाया था.

इस सीट पर पिछले चार बार से उत्तर गोवा लोकसभा सीट से बीजेपी के श्रीपाद येसो नाईक जीतते आ रहे हैं. यहां से बीजेपी को जितनी बार भी जीत मिली, वो श्रीपाद येसो नाईक ने ही दिलाई. इस सीट पर 13 बार हुए लोकसभा चुनावों में से चार बार बीजेपी, पांच बार कांग्रेस और महाराष्ट्रवादी चार बार गोमांतक पार्टी ने जीत दर्ज की थी. नाईक से पहले 1998 में इस सीट पर कांग्रेस के रवि सीताराम नाईक का कब्जा था. इससे भी पहले साल 1996 में महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के प्रत्याशी खालाप रमाकांत ने जीत दर्ज की थी. आश्चर्य की बात है कि श्रीपाद येसो नाईक के अलावा यहां किसी भी उम्मीदवार को एक बार से ज्यादा जीत हासिल नहीं हुई. 

उत्तर गोवा संसदीय क्षेत्र में सबसे ज्यादा आबादी हिंदुओं की है और फिर दूसरे नंबर पर ईसाई समुदाय के लोगों की संख्या है. यह राज्य आर्थिक रूप से पर्यटन, लौह खनिज और मत्स्य पालन पर निर्भर है. यहां की प्राकृतिक खूबसूरती देखने के लिए भारत और दुनिया के विभिन्न हिस्सों से लोग पहुंचते हैं. गोवा की 40 सदस्यीय विधानसभा की 20 सीटें उत्तर गोवा संसदीय क्षेत्र में आती हैं. सूबे की राजधानी पणजी भी इसी संसदीय क्षेत्र में है. यहां कोंकणी, मराठी, अंग्रेजी, हिन्दी, पुर्तगाली भाषाएं बोली जाती हैं.

वहीं प्रदेश की बात करें तो भारत के पश्चिमी तट में स्थित गोवा राज्य में लोकसभा की 2 सीटें हैं. जिनमें उत्तर गोवा और दक्षिण गोवा सीट शामिल हैं. गोवा प्राकृतिक खूबसूरती और टूरिस्म की दृष्टि से दुनिया भर में मशहूर है, जहां देशी के साथ विदेशी पर्यटकों का भी हमेशा जमावड़ा लगा रहता है. यहां की अर्थव्यवस्था भी काफी हद तक पर्यटन पर निर्भर है. प्रति व्यक्ति आय की दृष्टि से यह भारत का सबसे अमीर राज्य माना जाता है.