मुख्यमंत्री की बेटी के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरेंगे 1,000 किसान, नामांकन भरने की हो रही है तैयारी

लोकसभा चुनाव लड़ने वाले प्रत्येक उम्मीदवार के लिए नामांकन शुल्क 25,000 रुपये है. 

मुख्यमंत्री की बेटी के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरेंगे 1,000 किसान, नामांकन भरने की हो रही है तैयारी
फोटो ANI

करीमनगर:  तेलंगाना की निजामाबाद लोकसभा सीट से करीब 1,000 किसान नामांकन पत्र दायर करने की कथित तौर पर योजना बना रहे हैं. निजामाबाद से के चंद्रशेखर राव की बेटी कविता सांसद हैं. यहां के किसान सत्तारूढ़ पार्टी टीआरएस पर हल्दी और लाल ज्वार का न्यूनतम समर्थन मूल्य सुनिश्चित करने में विफल रहने का आरोप लगा रहे हैं. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सोमवार को नामांकन पत्र भरने के पहले दिन किसानों समेत कई लोगों ने करीब 40 नामांकन पत्र लिए. 

कुछ किसानों ने बताया कि उन्होंने अपना विरोध दर्ज कराने के लिए नामांकन पत्र भरने का निर्णय लिया है. लोकसभा चुनाव लड़ने वाले प्रत्येक उम्मीदवार के लिए नामांकन शुल्क 25,000 रुपये है. 

दो तिहाई कांग्रेस विधायक टीआरएस के पक्ष में पाला बदलने को तैयार: टीआरएस नेता
तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के एक प्रमुख नेता ने सोमवार (18 मार्च) को संकेत दिया कि तेलंगाना में कांग्रेस के दो तिहाई विधायक उसके पक्ष में पाला बदलने को तैयार हैं. कांग्रेस के कुल 19 विधायकों में से आठ विधायक मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के नेतृत्व वाली टीआरएस में जाने को लेकर इस महीने की शुरूआत में अपनी मंशा जाहिर कर चुके हैं. इससे आसन्न लोकसभा चुनाव को लेकर तैयारियों में जुटी कांग्रेसी खेमे में मायूसी छाई हुई है. 

राव की पुत्री एवं निजामाबाद की सांसद के. कविता ने मीडिया से कहा, ‘‘जिस तरह से राज्य तरक्की कर रहा है, कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता और तेलुगूदेशम के कई लोग, वे सभी टीआरएस में आने को इच्छुक हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘जब संख्या दो तिहाई से अधिक (कुल क्षमता की) है, हम उन्हें प्रोत्साहित(पाला बदलने के लिए) कर रहे हैं. अन्यथा, किसी अकेले विधायक (को)... हम दलबदल के लिए प्रोत्साहित नहीं कर रहे हैं.’’ 

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि टीआरएस उसके विधायकों को दलबदल के लिए उकसा रही है और वे राज्यपाल से मुलाकात करने के अलावा सत्तारूढ़ पार्टी के खिलाफ अभियान चलायेंगे. उल्लेखनीय है कि 7 दिसम्बर, 2018 को संपन्न राज्य विधानसभा चुनावों में टीआरएस के खाते में 88 सीटें आई हैं. 119 सदस्यों वाले इस सदन में कांग्रेस दूसरे पायदान पर है. भाजपा के पास महज एक सीट है.