close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बीजेपी नेता रूपा गांगुली बोलीं, 'लोकतंत्र में विरोध की अनुमति है, पत्थरबाजी की नहीं'

रूपा गांगुली ने कहा कि कोई भी विरोध कर सकता है लेकिन, इसका मतलब यह नहीं है कि रैलियों के सारे पोस्टर फाड़ दिए जाएं.

बीजेपी नेता रूपा गांगुली बोलीं, 'लोकतंत्र में विरोध की अनुमति है, पत्थरबाजी की नहीं'
कॉलेज के अंदर से पथराव कर रहे लोगों की पहचान पर सवाल उठाते हुए रूपा गांगुली ने कहा कि टीएमसी अब मूर्ति तोड़ने का आरोप सीपीएम पर लगाने की कोशिश कर रही है.

कोलकाता: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) का सियासी रण अपने अंतिम दौर में पहुंच चुका है. इन सबके बीच पश्चिम बंगाल के कोलकाता में मंगलवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की रैली के दौरान टीएमसी कार्यकर्ताओं ने आगजनी और पत्थरबाजी की. इस घटना के बाद बीजेपी की राज्यसभा सांसद रूपा गांगुली ने बुधवार को तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की आलोचना की. रूपा गांगुली ने कहा कि लोकतंत्र में विरोध-प्रदर्शन की अनुमति है, लेकिन पत्थरबाजी करना विरोध नहीं होता है. 

रूपा गांगुली ने कहा कि कोई भी विरोध कर सकता है लेकिन, इसका मतलब यह नहीं है कि रैलियों के सारे पोस्टर फाड़ दिए जाएं. उन्होंने कहा कि टीएमसी के कार्यकर्ता खड़े होकर भाषण दे सकते थे लेकिन, पोस्टर-बैनर फाड़ना और पत्थर फेंकना प्रदर्शन नहीं कहलाता है. इसके साथ ही गांगुली ने विद्यासागर कॉलेज के अंदर तोड़ी जाने वाली ईश्वरचंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने में बीजेपी कार्यकर्ताओं की भूमिका होने को नकार दिया. 

 

 

उन्होंने कहा कि रोड शो का रूट कॉलेज के अंदर से नहीं था और हम शांतिपूर्वक रोड शो निकाल रहे थे. हमारी पार्टी के कोई कार्यकर्ता विद्यासागर की मूर्ति के पास नहीं थे. उन्होंने कहा कि पत्थरबाजी कॉलेज के अंदर से शुरू हुई थी और जिस तरह घटना के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी वहां पहुंच गईं, लोग उन पर सवाल उठा रहे हैं. पश्चिम बंगाल में अब यह नौटंकी नहीं चल पाएगी. 

कॉलेज के अंदर से पथराव कर रहे लोगों की पहचान पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि टीएमसी अब मूर्ति तोड़ने का आरोप सीपीएम पर लगाने की कोशिश कर रही है. लेकिन, मैं कहना चाहती हूं कि कोई भी सीपीएम नेता ईश्वरचंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़ने का आदेश नहीं दे सकता है. 

बता दें कि कोलकाता में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के मेगा रोड शो में मंगलवार को तोड़-फोड़ की गई. इसके साथ उनके काफिले पर पत्थरबाजी भी की गई. वहीं, भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज का सहारा लिया. इन सबके बीच चुनाव आयोग बुधवार को पश्चिम बंगाल में चुनावी हिंसा पर नजर रखने के लिए एक बैठक आयोजित करेगा.