close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में खुद को मजबूत कर रही है कांग्रेस, 12 निर्दलीय विधायकों को बनाया एसोसिएट मेंबर

विधानसभा चुनाव से पहले कई सीटों पर बगावत का सामना करने वाली कांग्रेस लोकसभा चुनाव से ठीक पहले अपने कुनबे को मजबूत कर रही है.

राजस्थान में खुद को मजबूत कर रही है कांग्रेस, 12 निर्दलीय विधायकों को बनाया एसोसिएट मेंबर
पार्टी ने राजस्थान के 6 बड़े चेहरों को कांग्रेस की सदस्यता दिला कर अपने साथ जोड़ा.

जयपुर: बारह निर्दलीय विधायकों को कांग्रेस के एसोसिएट मेंबर के रूप में जोड़कर पार्टी ने अब लोकसभा चुनाव में सरकार के मंत्रियों को भी चुनावी मैदान में उतारने का रास्ता साफ कर लिया है. विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी से बगावत करके चुनाव जीतने वाले बारह विधायकों ने राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस को समर्थन जताया और एसोसिएट मेंबर के रूप में पार्टी से जुड़ गए. इसके साथ ही अपने कुनबे को बढ़ाते हुए कांग्रेस ने प्रदेश के छह बड़े चेहरों को भी पार्टी में शामिल कराया. इसमें बीजेपी सरकार के तीन पूर्व मंत्री भी शामिल हैं.

विधानसभा चुनाव से पहले कई सीटों पर बगावत का सामना करने वाली कांग्रेस लोकसभा चुनाव से ठीक पहले अपने कुनबे को मजबूत कर रही है. इसी कड़ी में पार्टी ने बारह निर्दलीय विधायकों को राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस से जोड़ा. हालांकि दल-बदल रोधी कानून लागू होने के चलते यह सभी विधायक कांग्रेस की सदस्यता तो नहीं ले सकते, लेकिन विधानसभा में कांग्रेस को समर्थन देने के साथ ही अब यह कांग्रेस से एसोसिएट मेंबर्स के रूप में पहचाने जाएंगे.

इन 12 विधायकों के कांग्रेस के साथ आने से यह साफ हो गया है कि प्रदेश में सरकार को बहुमत साबित करने में कहीं भी खतरा नहीं है. यह बात कांग्रेस के लिए इसलिए भी बड़ी राहत है क्योंकि अब पार्टी सरकार के मंत्रियों को भी लोकसभा चुनाव के मैदान में उतार सकेगी. दरअसल पार्टी पहले भी कुछ बड़े चेहरों को लोकसभा चुनाव लड़ाना चाहती थी, लेकिन इससे सरकार को अस्थिरता की आशंका थी. अब बड़े चेहरों को चुनाव लड़ाने के साथ ही निर्दलीयों का समर्थन सदन के भीतर सरकार को, तो लोकसभा के संग्राम में पार्टी को मिलने से मजबूती आने की उम्मीद जगी है.

कांग्रेस सरकार को समर्थन देने वालों में कुशलगढ़ विधायक रमिला खड़िया के साथ थानागाजी के कांति लाल मीणा, गंगापुर सिटी के रामकेश मीणा, बस्सी के लक्ष्मण मीणा, सिरोही के संयम लोढ़ा, दूदू के बाबूलाल नाग, मारवाड़ जंक्शन के खुशवीर सिंह जोजावर, बहरोड से बलजीत यादव, श्रीमाधोपुर से महादेव सिंह खंडेला, गंगानगर से राजकुमार गौड़, किशनगढ़ से सुरेश टांक और शाहपुरा से विधायक आलोक बेनीवाल ने समर्थन दिया. इन सभी नेताओं के बैठने की भी अलग मंच पर व्यवस्था की गई, जिससे इनके कांग्रेस में पूरी तरह शामिल होने का कोई मैसेज ना जाए.

पार्टी ने राजस्थान के 6 बड़े चेहरों को कांग्रेस की सदस्यता दिला कर अपने साथ जोड़ा. इनमें बीजेपी सरकार में पूर्व मंत्री रहे और भारत वाहिनी के नेता घनश्याम तिवाड़ी, पूर्व मंत्री सुरेंद्र गोयल, जनार्दन सिंह गहलोत, बसपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डूंगरराम गेदर, जयपुर के महापौर विष्णु लाटा और कांग्रेस से विधानसभा चुनाव में बगावत करने वाले पूसाराम चौधरी का नाम शामिल है. अशोक गहलोत और सचिन पायलट ने सभी नेताओं का परिचय राहुल गांधी से कराया.