close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मप्र में आदिवासी नेता ने बढ़ाई कांग्रेस की मुसीबत, सरकार में रहते बीजेपी से मांगीं सीटें

जयस के प्रमुख डॉ. हीरालाल अलावा  मध्‍यप्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान चर्चा में आए. बाद में कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़कर वह विधायक बने थे.

मप्र में आदिवासी नेता ने बढ़ाई कांग्रेस की मुसीबत, सरकार में रहते बीजेपी से मांगीं सीटें

भोपाल: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha elections 2019) में मध्य प्रदेश में आदिवासी नेता हीरालाल अलावा कांग्रेस की मुसीबत बढ़ा सकते हैं. निमाड़ क्षेत्र में विधानसभा चुनाव के दौरान नई ताकत के तौर पर उभरे जय आदिवासी युवा शक्ति संगठन (जयस) ने लोकसभा चुनाव में अपने समर्थकों को टिकट दिलाने के लिए एक बार फिर कांग्रेस पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है. वह अपने संगठन के लिए 3 सीटें मांग रहे हैं. जयस के प्रमुख और कांग्रेस के विधायक डॉ. हीरालाल अलावा ने कहा कि उनके संगठन ने कांग्रेस और भाजपा दोनों ही दलों से जयस समर्थकों का साथ देने की मांग की है.

जयस के प्रमुख डॉ. अलावा ने मंगलवार को संवाददाताओं से कहा कि जयस ने कांग्रेस और भाजपा दोनों के सामने अपनी बात रख दी है और दोनों से कहा है कि वे जयस समर्थक उम्मीदवारों को टिकट दें, जयस समर्थक चुनाव जीतकर जाएंगे.

डॉ. अलावा ने विधानसभा चुनाव कांग्रेस के टिकट पर लड़ा था और वर्तमान में विधायक है. जब उनसे पूछा गया कि "आप कांग्रेस के विधायक है और जयस समर्थक के लिए भाजपा से भी टिकट मांग रहे हैं" तो उन्होंने कहा, "मै जरूर कांग्रेस में हूं, मगर जयस संगठन किसी भी राजनीतिक दल से बंधा हुआ नहीं है. यह एक स्वतंत्र सामाजिक संगठन है. इससे हजारों युवा जुड़े हुए हैं जो अपना निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र हैं."

उन्होंने आगे कहा कि यह तो संगठन को तय करना है कि उनके समर्थकों को संसद में जाना है तो किसके माध्यम से, भाजपा या कांग्रेस के माध्यम से. जयस ने दोनों दलों के सामने अपनी बात रख दी है. जो पार्टी मानेगी, जो पार्टी युवाओं का साथ देगी, संगठन उसके साथ होगा.

जयस का प्रभाव झाबुआ, धार व बैतूल संसदीय क्षेत्रों में है और वह भाजपा व कांग्रेस से जयस समर्थकों को उम्मीदवार बनाए जाने की मांग कर रहा है. विधानसभा चुनाव मे भी जयस ने कांग्रेस से कई टिकट मांगे थे, मगर सिर्फ डॉ. अलावा को ही उम्मीदवार बनाया गया था.