close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मथुरा लोकसभा सीट: हेमा मालिनी का इस बार पूरा होगा ड्रीम?, विपक्षियों से है कड़ा मुकाबला

मथुरा में मौजूदा सांसद हेमा मालिनी का मुकाबला महागठबंधन के प्रत्याशी रालोद के नरेन्द्र सिंह और कांग्रेस के महेश पाठक से है. हेमा ने साल 2014 में मथुरा सीट आसानी से जीती थी, लेकिन इस बार उन्हें प्रतिद्वंद्वियों से कड़ी टक्कर मिलने की संभावना है.

मथुरा लोकसभा सीट: हेमा मालिनी का इस बार पूरा होगा ड्रीम?, विपक्षियों से है कड़ा मुकाबला
हेमा मालिनी को पद्मभूषण अवॉर्ड से भी नवाजा जा चुका है.

नई दिल्ली: बीजेपी नेता और मथुरा से सांसद हेमा मालिनी इस बार फिर से चुनावी मैदान में है. बॉलीवुड में ड्रीम गर्ल के नाम से फेमस हुई हेमा मालिनी ने दशकों तक फिल्म इंडस्ट्री पर राज किया. बॉलीवुड के बाद उन्होंने राजनीति में अपना भाग्य आजमाया. साल 2004 में वह बीजेपी में शामिल हुईं. साल 2009 तक वह राज्यसभा की सदस्य रहीं. साल 2010 में पार्टी ने उन्हें जनरल सेक्रेटरी बनाया. साल 2014 लोकसभा चुनावों में उन्हें मथुरा सीट से पार्टी का उम्मीदवार बनाया गया और लोगों ने उन्हें भारी मतों से संसद में बैठाया. 

इस बार इनके बीच है टक्कर
मथुरा में मौजूदा सांसद हेमा मालिनी का मुकाबला महागठबंधन के प्रत्याशी रालोद के नरेन्द्र सिंह और कांग्रेस के महेश पाठक से है. हेमा ने साल 2014 में मथुरा सीट आसानी से जीती थी, लेकिन इस बार उन्हें प्रतिद्वंद्वियों से कड़ी टक्कर मिलने की संभावना है.

2014 में ये था जमादेश
2014 के चुनाव में बीजेपी ने हेमा को उत्तर प्रदेश की मथुरा सीट से उतारा. हेमा ने आरएलडी के जयंत चौधरी को 3,30,743 वोटों से हराया और पहली बार लोकसभा की सदस्य बनीं. इस बार फिर वह मैदान में हैं. उनके सामने महागठबंधन के प्रत्याशी नरेंद्र सिंह और कांग्रेस की ओर से महेश पाठक मैदान में हैं.

बॉलीवुड का सफर
हेमा मालिनी का जन्म 16 अक्टूबर 1948 को चेन्नई में हुआ था. हेमा मालिनी बचपन से ही हीरोइन बनना चाहती थी. हेमा मालिनी ने साल 1968 में राज कपूर के साथ फिल्म 'सपनों का सौदागर' से बॉलीवुड डेब्यू किया था. इस फिल्म ने को कोई खास प्रदर्शन नहीं किया था लेकिन हेमा मालिनी को उनके किरदार और अभिनय के लिए काफी तारीफें मिली थीं. इसके बाद उन्हें फिल्म 'जॉनी मेरा नाम' में देव आनंद और 'तुम हसीन मैं जवान' में धर्मेंद्र के अपोजिट कास्ट कर लिया गया था. दोनों ही फिल्म सुपरहिट साबित हुईं.

लाइव टीवी देखें

नाम किए कई अवॉर्ड
ड्रीम गर्ल को पहला फिल्मफेयर अवॉर्ड साल 1972 में रिलीज हुई उनकी फिल्म 'सीता और गीता' के लिए दिया गया था. इसके बाद उन्हें साल 2000 में फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से नवाजा गया. फिल्म इंडस्ट्री में सराहनीय योगदान के लिए हेमा मालिनी को पद्मभूषण अवॉर्ड से भी नवाजा जा चुका है. इसके साथ ही जानवरों पर होने वाले अत्याचार के खिलाफ अवाज बुलंद करने और शाकाहारी भोजन को प्रमोट करने के लिए पेटा (PETA) ने हेमा मालिनी को साल 2011 में पर्सन ऑफ द ईयर से सम्मानित किया था.