close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बेरहामपुर में 2014 वाला जलवा दिखा पाएंगे अधीर चौधरी, TMC और BJP से मुकाबला

पिछले चुनावों के नतीजों को भांपते हुए एक बार फिर इस सीट से कांग्रेस ने अधीर रंजन को ही मैदान में उतारा है. जबकि तृणमूल कांग्रेस (TMC)ने अपूर्बा सरकार को टिकट दिया है.

बेरहामपुर में 2014 वाला जलवा दिखा पाएंगे अधीर चौधरी, TMC और BJP से मुकाबला
फाइल फोटो.

नई दिल्ली : 2014 में हुए लोकसभा चुनावों में मोदी लहर और तृणमूल कांग्रेस की कांटे की टक्कर के बावजूद बेरहामपुर लोकसभा सीट कांग्रेस के खाते में गई थी. कांग्रेस के अधीर रंजन को जीत मिली, उन्हें 5,83,549 वोट हासिल हुए. अधीर रंजन ने टीएमसी उम्मीदवार को 3 लाख से ज्यादा मतों से मात दी थी. 

यह सीट 1952 में अस्तित्व में आई थी, और 1984 तक यहां RSP का वर्चस्व बना रहा. 1984 से 1989 में यहां कांग्रेस को जीत मिली. 1989-1999 तक इस सीट पर फिर लगातार RSP जीतती रही. 1999 के बाद से इस सीट पर कांग्रेस का वर्चस्व कायम है.

पिछले चुनावों के नतीजों को भांपते हुए एक बार फिर इस सीट से कांग्रेस ने अधीर रंजन को ही मैदान में उतारा है. जबकि तृणमूल कांग्रेस (TMC)ने अपूर्बा सरकार को टिकट दिया है.

रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी ने आईडी मौहम्मद को चुनाव मैदान में उतारा है, जबकि बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने कुशधज बाला और शिवसेना ने आशीष सिंघा को अपना उम्मीदवार घोषित किया है. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने कृष्णा को चुनावी रण में उतारा है, इनके अलावा दो निर्दलीय प्रत्याशी भी चुनाव लड़ रहे हैं. राष्ट्रीय़ पार्टिय़ों के अलावा स्थानीय पार्टियों के प्रत्याशी उतरने के कारण इस सीट पर मुकाबला दिलचस्प हो गया है. लेकिन कांग्रेस के अधीर रंजन के सामने अपनी सीट को बचाने का दवाब है.