close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आनंदपुर साहिब लोकसभा सीट पर कांग्रेस और अकाली दल के बीच कड़ी टक्कर, AAP भी मैदान में

पंजाब में कांग्रेस और अकाली दल के बीच में ही मुकाबला होता रहा है लेकिन 2014 में पहली बार चुनाव लड़ने वाली आम आदमी पार्टी ने भी यहां पार्टियों को कड़ी टक्कर दी थी.

आनंदपुर साहिब लोकसभा सीट पर कांग्रेस और अकाली दल के बीच कड़ी टक्कर, AAP भी मैदान में

आनंदपुर साहिब: लोकसभा चुनाव 2019 की तारीखों का ऐलान हो गया है. इस बार पंजाब के आनंदपुर साहिब लोकसभा क्षेत्र में भी दिलचस्प मुकाबला देखने को मिलेगा. रूपनगर जिले के हिस्से से बने आनंदपुर साहिब में हुए परिसीमन के बाद 2009 में पहला चुनाव हुआ था. 

वैसे तो पंजाब में कांग्रेस और अकाली दल के बीच में ही मुकाबला होता रहा है लेकिन 2014 में पहली बार चुनाव लड़ने वाली आम आदमी पार्टी ने भी यहां पार्टियों को कड़ी टक्कर दी थी. ऐसे में इस सीट पर त्रिकोणीय मुकाबले की उम्मीद है. वर्तमान में इस सीट से शिरोमणी अकाली दल के प्रेमसिंह चंदूमाजरा सांसद हैं. 

आपको बता दें, आनंदपुर साहिब सिखों के धार्मिक स्थलों में से एक महत्वपूर्ण स्थान है. गुरू तेग बहादुर द्वारा खुद इसकी स्थापना की गई थी और गुरू गोबिंद सिंह ने अपने जीवन का काफी वक्त यहां गुजारा था. कहा जाता है कि इस पवित्र भूमि पर गुरू जी ने खालसा पंथ की स्थापना की थी. 

2009 में हुए थे पहली बार चुनाव
परिसीमन आयोग की सिफारिश के बाद 2008 में आनंदपुर साहिब लोकसभा का गठन हुआ था. जिसके बाद इस लोकसभा क्षेत्र में पहली बार 2009 में चुनाव हुआ था. यानी इस लोकसभा क्षेत्र में अब तक केवल 2 बार ही लोकसभा चुनाव हुए हैं. इस क्षेत्र में पहली बार 2009 में कांग्रेस के रवनीत सिंह ने जीत हासिल की थी और शिरोमणी अकाली दल के दलजीत सिंह चीमा को हराया था. जबकि 2014 में शिरोमणी अकाली दल के प्रेमसिंह चंदूमाजरा यहां से जीते थे. 

आपको बता दें, आनंदपुर साहिब लोकसभा क्षेत्र में कुल वोटरों की संख्या 15 लाख से अधिक है. जिसमें 7.50 लाख के करीब महिला मतदाता हैं जबकि 8 लाख से अधिक पुरुष मतदाता हैं. वहीं, आनंदपुर साहिब सीट के 9 विधानसभा क्षेत्रों में से कांग्रेस के पास 5, आप के पास 3 और अकाली दल के पास 1 सीट है.