लोकसभा चुनाव 2019: तमिलनाडु के अरानी में वापसी की कोशिश में जुटी कांग्रेस

2011 की जनगणना के मुताबिक अरानी लोकसभा क्षेत्र की कुल जनसंख्या 18,04,274 के लगभग है, जिसमें से 16.5 फीसदी आबादी शहर तो 83.5 फीसदी आबादी ग्रामीण इलाकों में रहती है.

लोकसभा चुनाव 2019: तमिलनाडु के अरानी में वापसी की कोशिश में जुटी कांग्रेस
तमिलाडु की अरानी का राजनीतिक इतिहास सिर्फ दो चुनाव पुराना है. जिसमें 2009 में हुए चुनाव में कांग्रेस तो 2014 के लोकसभा चुनाव में एआईएडीएमके को जीत मिली है.

तमिलनाडु की बारहवीं लोकसभा सीट अरानी, 2008 में हुए परिसीमन के बाद अस्तित्व में आई. इसके बाद यहां दो बार चुनाव हो चुके हैं, जिसमें एक बार कांग्रेस तो एक बार AIADMK को जीत मिली है. चेन्नई के तिरुवल्लूर जिले के अंतर्गत आने अरानी लोकसभा सीट पर पहली बार 2009 में चुनाव हुआ, जिसमें इंडियन नेशनल कांग्रेस उम्मीदवार ने जीत हासिल की थी.

थेनकासी : तमिलनाडु की इस सीट पर दलित और थेवर मतदाता तय करते हैं नतीजे

चुनावी इतिहास
तमिलाडु की अरानी का राजनीतिक इतिहास सिर्फ दो चुनाव पुराना है. जिसमें 2009 में हुए चुनाव में कांग्रेस तो 2014 के लोकसभा चुनाव में एआईएडीएमके को जीत मिली है. 2009 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी ने  एम. कृष्णासामी ने जीत हासिल की.

अरानी की जनसंख्या
साल 2011 की जनगणना के अनुसार अरानी लोकसभा क्षेत्र की कुल जनसंख्या 18,04,274 के लगभग है, जिसमें से 16.5 फीसदी आबादी शहर तो 83.5 फीसदी आबादी ग्रामीण इलाकों में रहती है. साल 2016 की वोटर लिस्ट के मुताबिक इस सीट पर 13,69,668 मतदाता हैं, जिनमें से 6,85,747 महिला मतदाता और 6,83,921 पुरुष मतदाता हैं.  आपको बता दें कि अरानी संसदीय क्षेत्र में 6 विधानसभा सीटें आती हैं, इनमें पोलुर (Polur), वंदवासी (Vandavasi-SC), अरानी (Arani), जिंजी (Gingee), चेय्यर (Cheyyar)और  मैलम (Mailam) शामिल हैं.

2014 के लोकसभा चुनाव नतीजे
साल 2014 के लोकसभा चुनाव में अरानी लोकसभा क्षेत्र में AIADMK के वी. एलुमनाई ने 2,43,844 वोटों के अंतर से डीएमके उम्मीदवार को हराया था. इस चुनाव में AIADMK का प्रतिनिधित्व कर रहे वी. एलुमनाई को 5,02,721 वोट मिले थे, जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी डीएमके उम्मीदवार को 2,58,877 वोट मिले थे