लोकसभा चुनाव 2019: MP की ऐसी लोकसभा सीट, जहां 30 सालों से है BJP का राज

भोपाल लोकसभा क्षेत्र में पहली बार 1957 में चुनाव हुआ, जिसमें कांग्रेस की मैमुना सुल्तान ने जीत दर्ज कराई. इसके बाद 1962 में दोबारा मैमुना सुल्तान भोपाल की सांसद चुनी गईं, लेकिन 1967 में यहां भारतीय जनसंघ के प्रत्याशी ने कब्जा किया.

लोकसभा चुनाव 2019: MP की ऐसी लोकसभा सीट, जहां 30 सालों से है BJP का राज
फाइल फोटो

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट प्रदेश की हाईप्रोफाइल सीट्स में से एक है, यहां से मौजूदा सांसद भाजपा के आलोक संजर हैं. कभी कांग्रेस के कब्जे वाली इस सीट पर वर्तमान समय में बीजेपी का दबदबा है. 1984 में गैस त्रासदी में करीब बीस हजार लोगों की मौत के बाद सुर्खियों में आया भोपाल आज भी इस समस्या से पूरी तरह उबर नहीं पाया है और तभी से इस सीट पर कांग्रेस का सूपड़ा साफ ही रहा है. पिछले 8 चुनावों से यहां पर बीजेपी का ही कब्जा है और कांग्रेस इंतजार में बैठी है. 

राजनीतिक इतिहास
भोपाल लोकसभा क्षेत्र में पहली बार 1957 में चुनाव हुआ, जिसमें कांग्रेस की मैमुना सुल्तान ने जीत दर्ज कराई. इसके बाद 1962 में दोबारा मैमुना सुल्तान भोपाल की सांसद चुनी गईं, लेकिन 1967 में यहां भारतीय जनसंघ के प्रत्याशी ने कब्जा किया. 1971 में यहां फिर कांग्रेस ने वापसी की और पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा ने जीत दर्ज कराई तो 1977 में भारतीय लोकदल ने भोपाल में जीत हासिल की. इसके बाद 1980 में पिर शंकरदयाल शर्मा ने वापसी की और भारतीय लोकदल प्रत्याशी आरिफ बेग को हराया.

लोकसभा चुनाव 2019: जानें होशंगाबाद लोकसभा सीट के बारे में

1984 में भी यहां कांग्रेस ने ही कब्जा जमाए रखा, लेकिन 1989 में पहली बार यहां भाजपा ने जीत हासिल की और फिर तब से लेकर अब तक इस सीट पर भाजपा का ही कब्जा है. 1989 में भाजपा के सुशीलचंद्र वर्मा ने भोपाल लोकसभा सीट पर कब्जा किया, जिसके बाद वह लगातार 1998 तक भोपाल के सांसद रहे. 1999 में भाजपा नेत्री उमा भारती ने जीत हासिल की. इसके बाद 2004 और 2009 में कैलाश जोशी तो 2014 में आलोक संजर ने भोपाल लोकसभा सीट पर कब्जा किया.

मतदाता संख्या
चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक 2014 के चुनाव में भोपाल लोकसभा सीट पर 19,56,936 मतदाता थे. जिनमें से 9,17,932 महिला मतदाता और 10,39,004 पुरूष मतदाता थे. 2014 के लोकसभा चुनाव में यहां कुल 57.75 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था.

लोकसभा चुनाव 2019: विदिशा में पिछले 30 सालों से है BJP का एक छत्र राज्य

2014 चुनाव नतीजे
2014 के लोकसभा चुनाव में आलोक संजर ने कांग्रेस के प्रकाश मंगीलाल शर्मा को 3,70,696 वोटों से हराया था. आलोक संजर को इस सीट में 7,14,178 वोट और प्रकाश मंगीलाल को 3,43,482 वोट मिले थे.