close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव 2019: रोहतक में कांग्रेस के लिए लकी साबित हो सकते हैं दीपेंद्र हुड्डा

दीपेंद्र हुड्डा ने अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत 2005 में रोहतक में हुए उपचुनाव के दौरान की थी. उस वक्त उन्होंने यहां से पहली बार जीत हासिल की थी और सांसद बने थे.

लोकसभा चुनाव 2019: रोहतक में कांग्रेस के लिए लकी साबित हो सकते हैं दीपेंद्र हुड्डा
फाइल फोटो

रोहतक: कांग्रेस ने हरियाणा की रोहतक सीट से दीपेंद्र हुड्डा को अपना प्रत्याशी घोषित किया है. बता दें, दीपेंद्र हुड्डा हरियाणा की राजनीति का पुराना नाम है. दीपेंद्र हुड्डा को यह सियासत विरासत में मिली है. दीपेंद्र हुड्डा के पिता भूपेंद्र हुड्डा 2005 से 2014 तक हरियाणा के मुख्यमंत्री रह चुके हैं और वह खुद भी सोनीपत से चुनाव लड़ रहे हैं. वहीं उनके दादा रणबीर सिंह हुड्डा एक स्वतंत्रता सेनानी और संविधान सभा के सदस्य और पंजाब के मंत्री थे. 

दीपेंद्र हुड्डा ने अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत 2005 में रोहतक में हुए उपचुनाव के दौरान की थी. उस वक्त उन्होंने यहां से पहली बार जीत हासिल की थी और सांसद बने थे. बता दें, दीपेंद्र की उम्र 40 वर्ष है और उन्होंने बीटेक और एमबीए में पढ़ाई की है. 

दीपेंद्र को साल 2009 और फिर उसके बाद 2014 में मोदी लहर के दौरान भी जनता का साथ मिला था और वह दोनों बार यहां से सांसद चुने गए थे. यहां तक कि 2014 में हरियाणा में कांग्रेस एकमात्र रोहतक सीट पर ही दीपेंद्र के कारण जीत पाई थी. जिसके बाद अब दीपेंद्र एक बार फिर यहां से कांग्रेस के लिए चुनावी मैदान में हैं. 

दीपेंद्र को विरासत में मिली है सियासत
दीपेंद्र को यह सियासत, विरासत में मिली है. हरियाणा के पूर्व सीएम दीपेंद्र के पिता हैं. 2014 में दीपेंद्र इस सीट पर कुल 490063 वोटों से जीते थे. जिसके बाद अब उनके सामने अपने गढ़ को बचाना एक बड़ी चुनौती है. यहां दीपेंद्र को बीजेपी के अरविंद शर्मा कड़ी टक्कर दे रहे हैं.