लोकसभा चुनाव 2019: फतेहगढ़ साहिब सीट पर तीसरी बार होने जा रहा है आम चुनाव

फतेहगढ़ साहिब लोकसभा सीट 2008 के परिसीमन के बाद स्तित्व में आई थी.

लोकसभा चुनाव 2019: फतेहगढ़ साहिब सीट पर तीसरी बार होने जा रहा है आम चुनाव
फतेहगढ़ साहिब में तीसरी बार आम चुनाव होने जा रहा है. (प्रतीकात्मक फोटो)

फतेहगढ़ साहिबः साल 2008 के परिसीमन के बाद पंजाब के फतेहगढ़ साहिब को लोकसभा क्षेत्र बनाया गया था. फतेहगढ़ संसदीय सीट के अंतर्गत विधानसभा की 9 सीटें हैं. जिनके नाम बस्सी पठाना, फतेहगढ़ साहिब, अमलोह, खन्ना, समराला, साहनेवाल, पायल, रायकोट और अमरगढ़ सीटें हैं. इन 9 विधानसभा सीटों में से 7 सीटों पर कांग्रेस का कब्जा है जबकि एक-एक सीट पर अकाली दल और आप उम्मीदवार जीते थे.

वहीं, 2009 में यहां पहली बार लोकसभा चुनाव हुआ. पहली बार चुनाव में फतेहगढ़ साहिब में कांग्रेस ने जीत हासिल की थी. इसलिए फतेहगढ़ साहिब के पहले सांसद कांग्रेस नेता सुखदेव सिंह बने थे. उन्होंने अकाली दल के नेता चरणजीत सिंह को हराया था.

वहीं, 2014 में फतेहगढ़ साहिब सीट पर दूसरी बार लोकसभा चुनाव हुआ. लेकिन इसमें कांग्रेस को जीत हासिल नहीं हुई. साथ ही मोदी लहर में एनडीए के सहयोगी दल अकाली दल को भी जीत हासिल नहीं हुई थी. जबकि पहली बार इस सीट से चुनाव लड़ रही पार्टी आप के उम्मीदवार ने जीत हासिल की थी.

आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार हरिंदर सिंह खालसा ने 2014 में कांग्रेस और अकाली दल को धुल चटाई थी. लेकिन इस बार आप के लिए मुश्किलें बढ़ गई है. हरिंदर सिंह का पार्टी से ही मनमुटाव हो गया है क्योंकि उनका टिकट काट कर इस बार पार्टी से हरवंश कौर को टिकट दिया है. जबकि कांग्रेस ने डॉ अमर सिंह को मैदान में उतारा है. साथ ही अकाली दल ने दरबारा सिंह को उम्मीदवार बनाया है.

देखना यह कि क्या आम आदमी पार्टी इस बार दोबारा जीत हासिल करने में सफल होती है, या कांग्रेस को फिर से जीतने का मौका मिलेगा. वहीं, अकाली दल अगर यह सीट जीतती है तो यह उसके लिए पहली जीत होगी.