close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गाजीपुर लोकसभा सीट: विकास के एजेंडे से बीजेपी दोहराना चाहेगी 2014 का जनादेश

उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन के बाद से पूर्वांचल की गाजीपुर लोकसभा सीट पर चुनाव रोमांचक होने के आसार नजर आ रहे हैं. 

गाजीपुर लोकसभा सीट: विकास के एजेंडे से बीजेपी दोहराना चाहेगी 2014 का जनादेश
गाजीपुर संसदीय सीट पर लोकसभा चुनाव 2019 के सातवें और अंतिम चरण में 19 मई को मतदान होगा.

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) का सियासी रण अपने चरम पर है. उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन के बाद से पूर्वांचल की गाजीपुर लोकसभा सीट पर चुनाव रोमांचक होने के आसार नजर आ रहे हैं. हिंदी साहित्य के बड़े हस्ताक्षर रहे राही मासूम रजा और परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद की जन्मस्थली गाजीपुर से मौजूदा सांसद मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा हैं. इस सीट पर बीजेपी ने पहली बार 1996 में जीत दर्ज की थी. मनोज सिन्हा 1999 में भी सांसद रहे थे. 

5 विधानसभा सीटों पर ऐसा है गणित 
गाजीपुर लोकसभा सीट के अंतर्गत गाजीपुर सदर, जमानिया, सैदपुर, जंगीपुर और जखनिया विधानसभा सीटें आती हैं. इनमें से दो विधानसभा सीटों पर बीजेपी, दो पर समाजवादी पार्टी और एक विधानसभा सीट पर उत्तर प्रदेश में बीजेपी की पूर्व सहयोगी रही सुभासपा का कब्जा है. गठबंधन के चलते गाजीपुर लोकसभा सीट पर बीजेपी की राह आसान नहीं दिख रही है. गठबंधन के बाद यह सीट बसपा के खाते में आई है. 

2014 में ये रहा था जनादेश
2014 में हुए आम चुनाव में गाजीपुर लोकसभा सीट से बीजेपी के प्रत्याशी रहे मनोज सिन्हा ने जीत दर्ज कर संसद तक का रास्ता तय किया था. मनोज सिन्हा ने सपा की प्रत्याशी शिवकन्या कुशवाहा को 32,452 नवोटों के अंतर से हराया था. बीजेपी प्रत्याशी मनोज सिन्हा को 3,06,929 वोट मिले थे. वहीं, दूसरे स्थान पर रहीं शिवकन्या कुशवाहा को 2,74,477 वोट मिले थे. वहीं, 2,41,645 वोटों के साथ बसपा के कैलाश नाथ सिंह यादव तीसरे स्थान पर रहे थे.   

गाजीपुर से इन सांसदों ने किया है प्रतिनिधित्व  
1952 और 1957 के आम चुनाव में कांग्रेस के हर प्रसाद सिंह, 1962 में कांग्रेस के विश्वनाथ सिंह गहमरी, 1967 और 1971 में सीपीआई के सरजू पांडे, 1977 में लोकदल के गौरी शंकर राय, 1980 और 1984 में कांग्रेस के जैनुल बशर, 1989 में निर्दलीय जगदीश कुशवाहा ने जीत हासिल की. 1991 में सीपीआई के विश्वनाथ शास्त्री, 1996 में बीजेपी के मनोज सिन्हा, 1998 में सपा के ओमप्रकाश सिंह, 1999 में बीजेपी के मनोज सिन्हा, 2004 में सपा के अफजल अंसारी और 2009 में सपा के राधे मोहन सिंह ने जीत दर्ज की.

छठवें चरण में होगा मतदान
गाजीपुर लोकसभा सीट पर मतदाताओं की कुल संख्या 18,01,519 है. इनमें से 9,83,352 पुरुष मतदाता और 8,18,105 महिला मतदाता हैं. उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन के बाद इस सीट पर बीजेपी की राह आसान नहीं दिख रही है. गाजीपुर संसदीय सीट पर लोकसभा चुनाव 2019 के सातवें और अंतिम चरण में 19 मई को मतदान होगा.