• 80/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    51बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    20कांग्रेस+

  • अन्य

    9अन्य

मेदिनीपुर लोकसभा: सीपीएम के बाद TMC के खाते में गई सीट, क्या कायम रह पाएगा किला?

मेदिनीपुर लोकसभा क्षेत्र पूरबा मेदिनीपुर और पश्चिम मेदिनीपुर जिले में स्थित है. 2011 की जनगणना के मुताबिक  यहां की आबादी 2166808 है. इसमें से 76.27 फीसदी आबादी ग्रामीण है.

मेदिनीपुर लोकसभा: सीपीएम के बाद TMC के खाते में गई सीट, क्या कायम रह पाएगा किला?
फाइल फोटो.

नई दिल्ली : पश्चिम बंगाल की 42 लोकसभा सीटों में से मेदिनीपुर एक महत्वपूर्ण सीट है. 1951 में अस्तित्व में आई यह सीट  यह कांग्सताबती नदी के किनारे है. यह संसदीय क्षेत्र सीपीएम के कद्दावार नेता इंद्रजीत गुप्ता की कर्मस्थली रहा है. परांपरागत और आधुनिक शिक्षण संस्थानों से लबरेज मेदिनीपुर की आधे से ज्यादा आबादी कृषि पर ही आधारित है. जमीन और प्रकृति के सौंदर्य से भरपूर इस सीट पर कई तरह के फूल पाए जाते हैं, जिनका व्यापार विदेशों तक फैला हुआ है. 

क्या कहता है मेदिनीपुर का सामाजिक ताना बाना
मेदिनीपुर लोकसभा क्षेत्र पूरबा मेदिनीपुर और पश्चिम मेदिनीपुर जिले में स्थित है. 2011 की जनगणना के मुताबिक  यहां की आबादी 2166808 है. इसमें से 76.27 फीसदी आबादी ग्रामीण  है जबकि 23.73 फीसदी शहरी. यहां अनुसूचित जाति-जनजाति का रेश्यो 15.23 और 12.68 फीसदी है. 2017 की मतगणना के मुताबिक यहां मतदाताओं की संख्या 1606316 है. 

इस बार किस-किस के बीच है मुकाबला
2019 में यहां पर ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस, सीपीएम और बीजेपी के बीच मुकाबला होगा. चुनाव अभियान की शुरुआत में ही पीएम नरेंद्र मोदी ने यहां पर रैली कर तृणमूल के खिलाफ बिगुल बजा दिया है. उनकी जनसभाओं में जिस तरह से भीड़ आ रही है उससे बीजेपी को कम करके नहीं आंका जा सकता.