लोकसभा चुनाव 2019: AIADMK का गढ़ मानी जाने वाली पोल्लाची लोकसभा सीट, इस बार किसकी?

1951 में अस्तित्व में आई पोल्लाची लोकसभा सीट पर अभी तक 16 बार चुनाव हो चुके हैं. जिनमें 1951 में कांग्रेस को इस सीट पर पहली जीत हासिल हुई.

लोकसभा चुनाव 2019: AIADMK का गढ़ मानी जाने वाली पोल्लाची लोकसभा सीट, इस बार किसकी?
1996 में यहां पहली बार तमिल मनीला कांग्रेस ने जीत दर्ज की. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः तमिनाडु के प्रमुख लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों में से एक पोल्लाची (Pollachi) लोकसभा सीट पर पहली बार 1951 में चुनाव हुआ था. जिसमें भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी. पहले चुनाव में पोल्लाची में कांग्रेस के दामोदराम सांसद चुने गए. पोल्लाची तमिलनाडु का दूसरा सबसे बड़ा शहर है, कोयंबटूर और तिरूपुर तक फैली यह लोकसभा सीट इसलिए भी खास मानी जाती है क्योंकि यहां की 61 फीदसी जनता शहरी क्षेत्र में रहती है और यह सामान्य वर्ग के लिए आरक्षित है. अभी तक इस सीट पर एआईएडीएमके का वर्चस्व रहा है. पोल्लाची में सबसे ज्यादा बार सांसद एआईएडीएमके से ही चुने गए हैं.

कितने बार हुए चुनाव
1951 में अस्तित्व में आई पोल्लाची लोकसभा सीट पर अभी तक 16 बार चुनाव हो चुके हैं. जिनमें 1951 में कांग्रेस को इस सीट पर पहली जीत हासिल हुई. इसके बाद 1957 और 1962 में भी कांग्रेस ही विजयी रही. 1971 में DMK को पोल्लाची में जीत मिली. 1977 के चुनाव में पहली बार एआईएडीएमके को जीत हासिल हुई, लेकिन 1980 फिर यहां DMK ने यह सीट एआईएडीएमके से छीन ली. इसके बाद 1984, 1989 और 1991 में यहां एआईएडीएमके का ही इस सीट पर कब्जा रहा.

दिलचस्प होगा हुगली सीट का दंगल, कांग्रेस के सामने सीट बचाने की चुनौती

1996 में यहां पहली बार तमिल मनीला कांग्रेस ने जीत दर्ज कराई, लेकिन 1998 में एआईएडीएमके ने तमिल मनीला कांग्रेस से यह सीट छीन ली, लेकिन 1999 में MDMK ने यहां जीत दर्ज कराते हुए एआईएडीएमके को करारी शिकस्त दी और 2004 में भी MDMK ने ही जीत हासिल की. हालांकि एआईएडीएमके ने फिर वापसी की और 2009 और 2014 के लोकसभा चुनावों में जीत दर्ज कराई. बता दें एआईएडीएमके इस सीट पर अभी तक 7 बार जीत दर्ज कर चुकी है. पोल्लाची लोकसभा सीट में करीब 13 लाख से ज्यादा मतदाता हैं. जिनमें 49.72 फीसदी पुरुष और 50.27 फीसदी महिला मतदाता हैं.

2014 लोकसभा चुनाव
2014 के लोकसभा चुनाव में एआईएडीएमके के सी. महेंद्रन ने पोल्लाची लोकसभा सीट पर जीत दर्ज की थी. सी महेंद्रन को इस चुनाव में 417,092 वोट मिले थे. वहीं दूसरे नंबर पर केएमडीके के ई.आर. ईश्वरन थे, जिन्हें 276,118 मत मिले थे.