close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव 2019: रामनाथपुरम में AIADMK और DMK के बीच कांटे की टक्कर

2011 की जनगणना के मुताबिक रामनाथपुरम की कुल आबादी 18,98,025 है. जिनमें से 73 फीसदी से अधिक लोग गांवों में निवास करते हैं

लोकसभा चुनाव 2019: रामनाथपुरम में AIADMK और DMK के बीच कांटे की टक्कर
तमिलनाडु की रामनाथपुरम लोकसभा सीट पर पहली बार 1951 में चुनाव हुए, जिसमें कांग्रेस को जीत हासिल हुई थी. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः तमिलनाडु की रामनाथपुरम लोकसभा सीट पर फिलहाल AIADMK से ए अनवर राजा सांसद हैं. राजा ने 2014 के लोकसभा चुनाव में भारी मतों से अपने प्रतिद्वंदी से जीत दर्ज की थी. इस बार भी पार्टी के उन पर भरोसा जताया. AIADMK और DMK के अलावा इस सीट पर भाजपा तीसरे नंबर की पार्टी रही है. रामनाथपुरम को 'लाल मिट्टी के घर' के नाम से भी जाना जाता है. बंगाल की खाड़ी के पास स्थित रामनाथपुरम से बहुत सी ऐतिहासिक गाथाएं जुड़ी हैं, जिसके चलते यह तमिलनाडु की खास संसदीय सीटों में से एक माना जाता है.

चुनावी इतिहास
तमिलनाडु की रामनाथपुरम लोकसभा सीट पर पहली बार 1951 में चुनाव हुए, जिसमें कांग्रेस को जीत हासिल हुई थी और इसके बाद 1957 और 1962 में भी यहां कांग्रेस का सिक्का चला था, लेकिन 1967 में निर्दलीय उम्मीदवार ने कांग्रेस से रामनाथपुरम लोकसभा सीट छीन ली. इसके बाद 1971 में AIFB, 1977 में AIADMK, 1980 में DMK तो 1984, 1989 और 1991 में लगातार इस सीट पर कांग्रेस का कब्जा रहा. 

कोडरमा लोकसभा सीट: बाबूलाल मरांडी पहली भी रह चुके हैं सांसद, BJP-JVM में होगा दिलचस्प मुकाबला

1996 में यहां पर TMC ने विजय हासिल की. लेकिन एक बार फिर AIADMK ने यहां 1998 और 1999 में लगातार दो बार जीत दर्ज की. वहीं 2004 और 2009 में फिर यहां DMK उम्मीदवार जीते, लेकिन 2014 में AIDMK के ए अनवर राजा ने जीत हासिल कर DMK की हैट्रिक पर ग्रहण लगा दिया.

रामनाथपुरम जनसंख्या
चुनाव आयोग के 2014 के आंकड़े के अनुसार रामनाथपुरम की कुल आबादी 18,98,025 है. जिनमें से 73 प्रतिशत से अधिक लोग गांवों में निवास करते हैं, जबकि महज 27 प्रतिशत लोग शहर में रहते हैं. यहां की 18.35 प्रतिशत जनसंख्या एससी वर्ग की है.

2014 के लोकसभा चुनाव
2014 के लोकसभा चुनाव में रामनाथपुरम लोकसभा सीट से एआईएडीएमके के ए. अनवर राजा ने यहां से जीत दर्ज की थी. ए. अनवर राजा को 2014 के लोकसभा चुनाव में 4,05,945 वोट मिले थे, जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी रहे डीएमके एस मोहम्मद जलील को 2,86,621 वोट मिले थे.