close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

संगरूर लोकसभा सीट पर शिरोमणि अकाली दल और AAP के बीच कड़ा मुकाबला

2014 में हुए लोकसभा चुनाव में भगवंत मान को 5,33,237 मत मिले थे जबकि शिरोमणि अकाली दल के सुखदेव सिंह ढींढसा को 3,21,516 मत लेकर दूसरे पायदान पर रहे थे.

संगरूर लोकसभा सीट पर शिरोमणि अकाली दल और AAP के बीच कड़ा मुकाबला
2014 में हुए लोकसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी ने जीत का परचम लहराया था.

संगरूर: लोकसभा चुनाव का शंखनाद हो चुका है. देश की सभी छोटी बड़ी पार्टियों ने राजनीति की शतरंज पर अपने दांव चलने शुरू कर दिए हैं. इसी कड़ी में पंजाब के संगरूर लोकसभा सीट को लेकर भी राजनीतिक बिसात बिछ चुकी है. वैसे संगरूर लोकसभा सीट के इतिहास को देखें तो 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के भगवंत मान ने जीत का परचम लहराया था. 

2014 में हुए लोकसभा चुनाव में भगवंत मान को 5,33,237 मत मिले थे जबकि शिरोमणि अकाली दल के सुखदेव सिंह ढींढसा को 3,21,516 मत लेकर दूसरे पायदान पर रहे थे. वहीं संगरूर लोकसभा सीट के इतिहास की बात करें तो यहां की राजनीतिक जमीन पर शिरोमणि अकाली दल का मुख्य रूप से कब्जा रहा है. साल 1967 में संगरूर लोकसभा सीट पर अकाली दल ने अपना कब्जा जमाया था.

हालांकि 1971 में CPI, 1977 में शिरोमणि अकाली दल, 1980 में कांग्रेस, 1985 में शिरोमणि अकाली दल, 1989 में शिरोमणि अकाली दल (M), 1991 में कांग्रेस ने, 1996 और 1998 में शिरोमणि अकाली दल ने, 1999 में शिरोमणि अकाली दल (M),  2004 में शिरोमणि अकाली दल और 2009 में कांग्रेस ने जीत हासिल की थी. संगरूर लोकसभा सीट के विधानसभा क्षेत्रों की बात करें तो यहां मलेरकोटला, धुरी, संगरूर, दिरबा, बहादुर, मेहल कलां लहरा, सुनाम और बरनाला हैं.

वहीं पंजाब के संगरूर लोकसभा सीट पर पूरे सियासत की नजरें टिकी हुई हैं. बता दें कि वर्तमान में संगरूर लोकसभा सीट पर आम आदमी पार्टी के भगवंत मान सांसद हैं. लेकिन इस चुनाव में शिरोमणि अकाली दलके प्रधान सिमरनजीत सिंह मान भी मैदान में हैं. सांसद भगवंत मान व सिमरनजीत सिंह मान दोनों ही अपने चुनाव प्रचार में जुट गए हैं. वहीं कांग्रेस ने अभी इस सीट पर जीत हासिल करने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी है. वहीं लोक इंसाफ पार्टी, बहुजन समाज पार्टी,पंजाबी एकता पार्टी, पंजाब डेमोक्रेटिक अलायंस ने भी एकजुट होकर लोकसभा चुनावों में उतर चुकी है.