वेल्लोर सीट पर इस बार अन्नाद्रमुक या द्रमुक, कौन जीतेगा बाजी?

तमिलनाडु की वेल्लोर लोकसभा सीट से फिलहाल एआईएडीएमके के बी. सेनगुट्टुवन (B.Senguttuvan) सांसद हैं. राज्य की आठवें नंबर की इस सीट का गठन 1951 में हुआ था.

वेल्लोर सीट पर इस बार अन्नाद्रमुक या द्रमुक, कौन जीतेगा बाजी?

तमिलनाडु की वेल्लोर लोकसभा सीट से फिलहाल एआईएडीएमके के बी. सेनगुट्टुवन (B.Senguttuvan) सांसद हैं. राज्य की आठवें नंबर की इस सीट का गठन 1951 में हुआ था. तमिलनाडु के प्राचीन शहरों में से एक वेल्लोर पलार नदी के किनारे पर है. इस सीट पर अभी तक के राजनीतिक इतिहास पर नजर डालें तो यहां ज्यादातर डीएमके का प्रत्याशी ही जीता है. 1971 के परिसीमन के बाद यहां पर 2014 तक 12 बार चुनाव हुए हैं.

चार बार कांग्रेस की झोली में गई सीट
12 बार में से चार बार यह सीट डीएमके और चार बार कांग्रेस की झोली में गई है. इसके अलावा दो बार पीएमके और दो बार अन्नाद्रमुक प्रत्याशी यहां पर विजयी हुआ है. 1998 में इस सीट पर पीएमके एनटी शानमुघम, 2004 में केएम केदार मोहिद्दुीन और 2009 में अब्दुल रहमान यहां से सांसद बने थे.

साल 2014 के अनुसार वेल्लोर संसदीय सीट पर कुल 13,12,251 मतदाता हैं. इनमें 6,52,064 पुरुष और 6,60,187 महिला मतदाता हैं. वेल्लोर संसदीय सीट के अंतर्गत छह विधानसभा आती हैं. इन विधानसभा का नाम वेल्लोर (Vellore), अनाई कट्टू (Anaikattu) किलवाईथिनंकुप्पम (Kilvaithinankuppam-SC), गुडियथम (Gudiyatham-SC), वानीयंबादी (Vaniyambadi) और अंबूर (Ambur) हैं.