मुर्शिदाबाद में है वामपंथ का वर्चस्व, टीएमसी और बीजेपी के लिए आसान नहीं है राह

2014 के आम चुनावों में पश्चिम बंगाल की सत्ता में कायम रहने के बावजूद मुर्शिदाबाद में तृणमूल कांग्रेस जीत दर्ज नहीं कर पाई थी. 

मुर्शिदाबाद में है वामपंथ का वर्चस्व, टीएमसी और बीजेपी के लिए आसान नहीं है राह
फाइल फोटो.

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल की खूबसूरत हुगली नदी के तट पर बसा मुर्शिदाबाद कई प्राकृतिक सौंदर्य से लबरेज है. मुगलकाल में यह जगह मुर्शिदाबाद राजधानी के नाम से जाना जाता था. मुर्शिदाबाद लोकसभा सीट पर आमतौर पर मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) और कांग्रेस के बीच सीधा मुकाबला रहा है.

2014 के आम चुनावों में पश्चिम बंगाल की सत्ता में कायम रहने के बावजूद मुर्शिदाबाद में तृणमूल कांग्रेस जीत दर्ज नहीं कर पाई थी. इस सीट पर 1977 और 2004 से लेकर 2014 तक के आम चुनावों को छोड़ दिया जाए तो इस सीट पर मुस्लिम उम्मीदवार ही जीतते रहे हैं. चाहे वे कांग्रेस के हों या माकपा के प्रत्याशी.

क्या कहते हैं पिछले चुनाव के आंकड़ें
सीट पर अभी मौजूदा सांसद- खान मोहम्‍मद बदरुद्दुज़ा, TMC
जीत का अंतर- 18,453 वोट
दूसरे स्थान पर- अब्दुल मन्नन हुसैन, कांग्रेस
2014 में कुल मतदाता- 15,12,098
पुरुष वोटरों की संख्या- 7,82,480
महिला वोटरों की संख्या- 7,29,615