close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

खम्माम लोकसभा सीट: रेणुका चौधरी फिर चुनावी मैदान में, त्रिकोणीय मुकाबले की संभावना

खम्माम लोकसभा सीट पर 11 अप्रैल को वोट पड़ चुके हैं और यहां 57 फीसदी मतदान रिकॉर्ड हुआ. अब 23 मई को आने वाले चुनावी परिणाम में इन उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला होगा.

खम्माम लोकसभा सीट: रेणुका चौधरी फिर चुनावी मैदान में, त्रिकोणीय मुकाबले की संभावना
पूर्व केंद्रीय मंत्री और राज्यसभा सांसद रेणुका चौधरी खम्मम एलएस निर्वाचन क्षेत्र के लिए कांग्रेस का चेहरा हैं. (फाइल)

खम्माम: तेलंगाना की खम्माम (Khammam) लोकसभा सीट पर राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) ने नामा नागेश्वर राव (Nama Nageswara Rao) को चुनाव लड़वाया है. राव का मुकाबला पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस उम्मीदवार रेणुका चौधरी से है. वहीं, बीजेपी ने यहां से वासुदेव राव को चुनावी मैदान में उतारा है. यहां सीपीआई का भी अच्छा-खासा दखल है. इस लोकसभा सीट पर 11 अप्रैल को वोट पड़ चुके हैं और यहां 67.96 फीसदी मतदान रिकॉर्ड किया गया. अब 23 मई को आने वाले चुनावी परिणाम में इन उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला होगा.

तेलंगाना राज्य की सभी 17 सीटों पर पहले चरण यानी 11 अप्रैल को वोटिंग हो चुकी है. 10 मार्च को लोकसभा चुनावों की घोषणा के बाद 18 मार्च को यहां नोटिफिकेशन निकाला गया और 25 मार्च को नॉमिनेशन की अंतिम तारीख घोषित की गई. इसके बाद 26 मार्च को प्रत्याशियों के नामों पर अंतिम मुहर लगाई गई और 11 अप्रैल को वोटिंग हुई.

पूर्व सांसद नामा नागेश्वर राव हाल ही में टीआरएस में शामिल हुए थे. उन्होंने 2009 में तेलुगू देशम पार्टी (TDP) के लिए खम्मम की सांसद सीट जीती थी. हालांकि, वह 2014 के चुनाव में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के पोंगुलेटि श्रीनिवास राव से चुनाव हार गए थे. टीआरएस प्रत्याशी राव ने 2018 के विधानसभा चुनावों में भी टीडीपी का प्रतिनिधित्व किया था, लेकिन टीआरएस के अजय पुव्वादा से हार गए थे.

पूर्व केंद्रीय मंत्री और राज्यसभा सांसद रेणुका चौधरी खम्मम एलएस निर्वाचन क्षेत्र के लिए कांग्रेस का चेहरा हैं. यह चौथी बार होगा जब वह इस सीट से चुनाव लड़ेंगी. 1999 और 2004 में रेणुका चौधरी ने खम्मम लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार के तौर पर जीत दर्ज की. वह केंद्र की यूपीए सरकार में मंत्री भी रहीं. इसके बाद 2009 में लोकसभा चुनाव में रेणुका चौधरी को यहां से हार का सामना करना पड़ा था. उन्हें टीडीपी के नामा नागेश्वर राव से हाराया था. इसके बाद वह 2012 में कांग्रेस से राज्यसभा सदस्य चुनी गईं.

16वीं लोकसभा के लिए यहां से श्रीनिवास रेड्डी जीतकर संसद पहुंचे थे. वाईएसआर कांग्रेस के उम्मीदवार रेड्डी को 2014 के चुनाव में 4,21,957 वोट मिले थे. दूसरे नंबर पर रहे टीडीपी के उम्मीदवार को नामा नागेश्वर राव को 4,09,983 वोट हासिल हुए थे. यहां सीपीआई के नेता Kankanala Narayana 1,87,653 वोट पाकर तीसरे स्थान पर थे.