VIP सीट है आसनसोल, फिल्मी हस्तियों के बीच है "लोड़बो, जीतबो" का मुकाबला

2014 में बांकुरा लोकसभा सीट पर मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के वासुदेव आचार्य को चारों खाने चित्त करने के बाद मुनमुन सेन की निगाहें आसनसोल की सीट पर टिकी हुई हैं.

VIP सीट है आसनसोल, फिल्मी हस्तियों के बीच है "लोड़बो, जीतबो" का मुकाबला
फाइल फोटो.

नई दिल्ली : पश्चिम बंगाल की वाईपी सीटों में आने वाले आसनसोल पर "लोड़बो, जीतबो" का मुकाबला दो राजनेताओं नहीं बल्कि दो फिल्मी हस्तियों के बीच होने वाला है. बंगला फिल्म इंडस्ट्री टॉलीवुड की आइकॉन सुचित्रा सेन की बेटी और बंगाली फिल्मों के साथ ही बॉलीवुड फिल्मों में अभिनय के जरिए लोकप्रियता बटोरने वाली मुनमुन सेन, वर्तमान के सांसद और बीजेपी नेता बाबुल सुप्रियो से है.

बाबुल की कुर्सी पर मुनमुन की आंखें
2014 में बांकुरा लोकसभा सीट पर मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के वासुदेव आचार्य को चारों खाने चित्त करने के बाद मुनमुन सेन की निगाहें आसनसोल की सीट पर टिकी हुई हैं. वो इस सीट को जीतने के लिए एड़ी-चोटी का दम लगा रही हैं. सेन का आत्मविश्वास भी इसलिए आसमान की ऊंचाइयों पर हैं, क्योंकि पिछले चुनावों में जिस उम्मीदवार को उन्होंने चित्त किया है वो 1980 से चुनाव लड़ रहे थे और हर बार जीत उनके खाते में ही जा रही थी. 

इस बार तृणमूल से ठोंक रही हैं दांव
मुनमुन सेन इस बार कांग्रेस खेमे से दूरी बना चुकी हैं और तृणमूल कांग्रेस ने इस बार सेन को आसनसोल में उम्मीदवार बनाया है. 2014 के चुनाव में आसनसोल सीट से तृणमूल कांग्रेस की उम्मीदवार डोला सेन को पराजित कर चुके सुप्रियो इस बार भी अपनी जीत को लेकर आश्वस्त हैं.

बीजेपी ने भी लगा रखी है निगाहें
2014 के आम चुनाव में पश्चिम बंगाल में दो सीट हासिल करने वाली बीजेपी इस बार अपनी सीटों की संख्या को बढ़ाने की पूरी कवायद कर रही है. पार्टी ने वर्तमान के सांसद बाबुल सुप्रीयो को मैदान में उतारा है. 

मौजूदा सांसद: बाबुल सुप्रीयो
बाबुल ने पार्श्व गायक के रूप में बॉलीवुड में अपना करियर बनाया. 'अपने संगीत करियर के दौरान बाबुल ने 11 अन्य भाषाओं में पार्श्व गायन भी किया है. 2014 में पहली बार आसनसोल से बीजेपी के उम्मीदवार बने और जीत दर्ज की. लेकिन इस बार मुनमुन सेन के रण में उतरने से बाबुल सुप्रीयो की मुश्किलें बढ़ गई हैं. 

तेजी से विकसित हो रहा है आसनसोल
यूके की रिसर्च ऑर्गनाइजेशन इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर इन्वायरेनमेंटल एंड डेवलपमेंट की रिपोर्ट की मानें तो आसनसोल तेजी से विकास कर रहा है. रिपोर्ट के मुताबिक, आसनसोल को भारत का 11वां और दुनिया का 42वां सबसे तेजी से विकसित होने वाले शहर के रूप में गया है. इस जगह की अर्थव्यवस्था पूरी तरह इस्पात और कोयला उद्योग और रेलवे पर टिकी हुई है.