मुंबई उत्‍तर-पश्चिम लोकसभा सीट : सुनील दत्‍त और बेटी प्रिया दत्‍त रह चुके हैं सांसद

यहां से वह 2 दो बार सांसद रहे, जबकि उनकी बेटी प्रिया दत्‍त एक बार सांसद रही हैं.

मुंबई उत्‍तर-पश्चिम लोकसभा सीट : सुनील दत्‍त और बेटी प्रिया दत्‍त रह चुके हैं सांसद
सुनील दत्‍त और प्रिया दत्‍त कांग्रेस के टिकट पर रहे हैं सांसद. फाइल फोटो

नई दिल्‍ली : महाराष्‍ट्र की मुंबई उत्‍तर पश्चिम लोकसभा सीट पर बॉलीवुड के दिवंगत अभिनेता सुनील दत्‍ता के परिवार का दबदबा रहा है. ऐसा इसलिए कहा जा सकता है क्‍योंकि यहां से वह 2 दो बार सांसद रहे, जबकि उनकी बेटी प्रिया दत्‍त एक बार सांसद रही हैं. मौजूदा समय में यह सीट शिवसेना के पास है. यहां से गजानन कीर्तिकार सांसद हैं. इस बार यह सीट किस पार्टी के पाले में जाती है, यह देखना दिलचस्‍प होगा. 

 

यहां 6 विधानसभा सीट हैं
महाराष्‍ट्र की मुंबई उत्‍तर पश्चिम लोकसभा सीट के अंतर्गत 6 विधानसभा सीट हैं. यहां की जोगेश्‍वरी पूर्व विधानसभा सीट शिवसेना के पास है. यहां से रवींद्र वाइकर विधायक हैं. दूसरी सीट दिंडोशी भी शिवसेना के पास ही है. यहां से सुनील प्रभु विधायक हैं. वहीं गोरेगांव विधानसभा सीट पर बीजेपी का कब्‍जा है. यहां से विद्या ठाकुर विधायक हैं. वर्सोवा और अंधेरी वेस्‍ट की सीट भी बीजेपी के पास है. वहीं अंधेरी ईस्‍ट शिवसेना के कब्‍जे में है.

18 साल सांसद रहे सुनील दत्‍त
अभिनेता से नेता बने सुनील दत्त मुंबई उत्‍तर पश्चिम लोकसभा सीट से 18 साल सांसद रहे हैं. वह पहली बार यहां से कांग्रेस के टिकट पर 1984 में चुनाव जीतकर सांसद बने. वह 1996 तक यहां से सांसद रहे. इसके बाद वह 1999 में चुनाव जीता. इसके बाद 2005 में सुनील दत्त की मौत के बाद हुए उपचुनाव में सुनील की बेटी प्रिया दत्त यहां से सांसद चुनी गई थीं.

यह है सीट का चुनावी इतिहास
1967 से 1977 तक मुंबई उत्‍तर पश्चिम लोकसभा सीट कांग्रेस के पास रही और उसके बाद जाने माने वकील राम जेठमलानी 1977 में पहले जनता पार्टी और फिर बाद में 1980 में बीजेपी से इस सीट से सांसद चुने गए. 1984 से 1996 तक कांग्रेस के सांसद और फिल्म अभिनेता सुनील दत्त ने इस सीट पर कब्‍जा रखा. 1996 और 1998 में शिवसेना ने यहां जीत दर्ज की. 1999 में फिर से ये सीट सुनील दत्त के पास चली गई. 2005 में सुनील दत्त की मौत के बाद हुए उपचुनाव में सुनील की बेटी प्रिया दत्त यहां से सांसद चुनी गई थीं. 2009 में भी ये सीट कांग्रेस के पास थी. 2014 के चुनाव में शिवसेना के गजानन कीर्तिकर ने इस सीट से चुनाव जीता और सांसद बने.

इस लोक सभा सीट के कुछ रोचक मुकाबले
2004 में सुनील दत्त का मुकाबला शिवसेना के तेज तर्रार नेता और पूर्व पत्रकार संजय निरुपम से था. कांटे की टक्कर में यहां से सुनील दत्त को जीत मिली थी. 2009 में भी इस सीट पर दिलचस्प मुकाबला था. कांग्रेस के गुरुदास कामत को जहां 2,53,920 वोट मिले तो शिवसेना के गजानन कीर्तिकर को 2,15,533 वोट मिले थे.

राज ठाकरे की पार्टी मनसे से शालिनी ठाकरे खड़ी हुई थी, उन्हें भी 1,24,000 वोट मिले तो वहीं समाजवादी पार्टी से अबू आजमी किस्मत आजमा रहे थे. उन्हें भी 84,412 वोट मिले थे लेकिन जीत हाथ लगी कांग्रेस को गुरुदास कामत को. ये सीन 2014 में पलट गया. यहां कांग्रेस के कामत शिवसेना के कीर्तिकर से आधे में सिमट गए थे. समाजवादी पार्टी की जगह आप पार्टी ने ले ली थी. मनसे के वोट भी पिछली बार से आधे हो गए थे.

ये है चुनावी गणित
मुंबई उत्‍तर पश्चिम लोकसभा सीट से 2014 में शिवसेना के गजानन कीर्तिकर ने 4,64,820 वोट पाकर जीत हासिल की थी. 2014 में कांग्रेस के गुरुदास कामत को 2,81,792 वोट मिले थे. तीसरे स्थान पर मनसे के उम्‍मीदवार और फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े महेश मांजरेकर रहे. इन्हें 66,088 वोट मिले थे.