Breaking News
  • दिल्‍ली हिंसा पर कांग्रेस ने राष्‍ट्रपति को ज्ञापन सौंपा
  • सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह समेत कई नेता राष्‍ट्रपति से मिले
  • अखिलेश यादव सीतापुर के लिए निकले. जेल में बंद सपा नेता आजम खां व उनके परिवार से करेंगे मुलाकात

लोकसभा चुनाव 2019: अब यूपी की 13 सीटों पर होना है मतदान, आंकड़ों में बीजेपी का पलड़ा भारी

लोकसभा चुनाव 2019 के अंतिम चरण में 8 राज्‍यों के 59 संसदीय क्षेत्रों में मतदान होना है. इस चरण में उत्‍तर प्रदेश की 13 संसदीय सीटों पर भी मतदान होना है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी भी शामिल है.

लोकसभा चुनाव 2019: अब यूपी की 13 सीटों पर होना है मतदान, आंकड़ों में बीजेपी का पलड़ा भारी
उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की पारंपरिक सीट गोरखपुर पर सभी की निगाह है. इस सीट पर बीते वर्ष गठबंधन के प्रत्‍याशी ने जीत हासिल की थी. (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: लोकसभा चुनाव 2019 के सातवें चरण में 8 राज्‍यों के 59 संसदीय क्षेत्रों में मतदान होना है. इस चरण में मतदान के बाद लोकसभा चुनाव 2019 की मतदान प्रक्रिया पूरी हो जाएगी. चुनाव के इस अंतिम चरण में उत्‍तर प्रदेश की 13 संसदीय सीटों पर 19 मई को मतदान होगा. जिसमें बलिया, बांसगांव, चंदौली, देवरिया, गाजीपुर, घोसी, गोरखपुर, कुशीनगर, महाराजगंज, मिर्जापुर, राबर्ट्सगंज, सलेमपुर और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी भी शामिल है. 2014 के लोकसभा चुनाव में उत्‍तर प्रदेश की इन सभी 13 संसदीय सीटों पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के प्रत्‍याशियों ने भारी अंतर से जीत दर्ज की थी.

हालांकि यह बात दीगर है कि 2018 में हुए गोरखपुर संसदीय क्षेत्र के उपचुनाव में समाजवादी पार्टी इस सीट को बीजेपी से छीनने में कामयाब रही थी. उल्‍लेखनीय है कि इस सीट से 2014 के लोकसभा चुनाव में योगी आदित्‍यनाथ चुनाव जीते थे. उत्‍तर प्रदेश का मुख्‍यमंत्री बनने के बाद यह सीट खाली हो गई थी. 2018 में हुए उपचुनाव में इस सीट से गठबंधन से समाजवादी पार्टी के प्रत्‍याशी प्रवीण कुमार ने  4लाख 56 हजार 589 वोट हासिल कर करीब 21 हजार वोटों के अंतर से जीत हासिल की थी. अब देखना यह है कि 19 मई के मतदान के बाद 23 मई को आने वाले अंतिम नतीजों में बीजेपी अपनी इन सीटों को बचाने में कामयाब रहती है या फिर गठबंधन के प्रत्‍याशियों की विजय होती है.

2014 की तरह हुआ मतदान तो 9 सीटों पर BJP का पलड़ा रहेगा भारी
लोकसभा चुनाव 2014 में उत्‍तर प्रदेश की इन सभी सीटों बीजेपी, सपा और बसपा के बीच त्रिकोणीय मुकाबला था. इस चुनाव में बीजेपी सपा और बसपा को बेहद आसानी से शिकस्‍त देकर जीत का परचम लहराने में कामयाब रही थी. लेकिन, बदली हुई परिस्थितियों में बीजेपी के लिए 2019 का लोकसभा चुनाव जीतना इतना आसान नहीं रहा है. दरअसल, अबकी बार बसपा और सपा ने गठबंधन कर एक साथ बीजेपी को चुनौती दी है. मौजूदा समय में हम 2104 के लोकसभा चुनाव में सपा और बसपा के वोटों को जोड़ दे तो सिर्फ 4 सीटें ऐसी दिख रही हैं, जहां पर गठबंधन बीजेपी पर भारी दिख रहा है. 

वहीं, बाकी बची 9 सीटों पर इस जोड़ के हिसाब से बीजेपी का पड़ला अभी भी भारी नजर आता है. जिन सीटों पर बीजेपी का पलड़ा भारी है, उसमें प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र वाराणसी, केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की सीट मिर्जापुर, केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्र की सीट देवरिया, राबर्ट्सगंज, सलेमपुर, बांसगांव,  महाराजगंज और कुशी नगर शामिल हैं. इसके अलावा, बीते 2014 के चुनाव में पड़े वोट के आधार पर जिन संसदीय सीटों पर गठबंधन का पलड़ा भारी दिख रहा है, उसमें बलिया, चंदौली, गाजीपुर और घोंसी संसदीय सीट शामिल है. इन चारों सीटों पर बीते चुनाव में सपा और बसपा को मिले वोटों के जोड़, बीजेपी को मिले वोटों से अधिक है. 

मुख्‍यमंत्री योगी की गोरखपुर संसदीय सीट पर टिकी है सबकी नजर
2014 के लोकसभा चुनाव में गोरखपुर संसदीय सीट से उत्‍तर प्रदेश के मौजूदा मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍य नाथ ने जीत दर्ज की थी. 2018 में योगी आदित्‍यनाथ को उत्‍तर प्रदेश का मुख्‍यमंत्री बनाए जाने के बाद यह सीट खाली हो गई थी. 2018 में ही, गोरखपुर संसदीय सीट के लिए उपचुनाव कराए गए. जिसमें बीजेपी ने उपेद्र दत्‍त शुक्‍ला को अपना उम्‍मीदवार बनाया. वहीं सपा और बसपा ने गठबंधन कर प्रवीण कुमार को अपना संयुक्‍त उम्‍मीदवार बनाया. उपचुनाव में गठबंधन के प्रत्‍याशी प्रवीण कुमार को 4.56 लाख वोट मिले, जबकि बीजेपी के उम्‍मीदवार उपेंद्र दत्‍त शुक्‍ल के हिस्‍से में 4.34 लाख वोट आए. प्रवीण कुमार करीब 22 हजार वोटों से यह चुनाव जीत गए. 

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की संसदीय सीट से उपेंद्र दत्‍त शुक्‍ल की हार को बीजेपी की बड़ी हार के तौर पर देखा गया. बीजेपी ने अपने इस गढ़ को दोबारा वापस हासिल करने के लिए इस बार भोजपुरी फिल्‍मों के अभिनेता रविकिशन शुक्‍ल को मैदान में उतारा है. वहीं सपा-बसपा गठबंधन की तरफ से रामभुआल निषाद और कांग्रेस ने मधुसूदन तिवारी को अपना उम्‍मीदवार बनाया है. गोरखपुर के बीजेपी नेताओं का दावा है कि बीते चुनाव में जीत और हार का अंतर महज 22 हजार वोटों का था, तब माहौल कुछ और था, अब गोरखपुर की फिजा कुछ अगल है. बीजेपी के प्रत्‍याशी रवि किशन शुक्‍ल न केवल 22 हजार के इस मामूली अंतर को पाटेंगे, बल्कि भारी अंतर से जीत भी दर्ज करेंगे. 

लोकसभा चुनाव 2014 में किस संसदीय सीट से किस प्रत्‍याशी को मिले कितने वोट 

संसदीय क्षेत्र  बीजेपी सपा बसपा

सपा-बसपा
के कुल वोट

बीजेपी के वोटों का अंतर
बलिया  भरत सिंह
वोट-359758
नीरज शेखर
वोट-220089
वीरेंद्र कुमार पाठक
वोट- 141471
361560 - 1802
बांसगांव कमलेश पासवान
वोट-417959
गोपाल प्रसाद
वोट-133675
 सलद प्रसाद
वोट-228443 
362118 + 55841
चंदौली  डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय
वोट-414135
 रामकिशुन
वोट-204145
अनिल कुमार मौर्य
वोट-257379
461524 - 47389
देवरिया कलराज मिश्र
वोट-496500
बलेश्‍वर यादव
वोट-150852
 निजयाज अहमद
वोट-230862 
381714 + 114786
ग़ाज़ीपुर मनोज सिन्‍हा
वोट-306929
 शिवकन्‍या कुशवाहा
वोट-274477 
कैलाश नाथ सिंह
वोट-241645
516122 - 209193
घोसी  हरिनारायण
वोट-371739
राजीव कुमार राय
वोट-165887
दारा सिंह चौहान
वोट-233782 
399669 - 27930
गोरखपुर योगी आदित्‍य नाथ
वोट-538604
राजमती निषाद
वोट-226344
राम बहुल निषाद
वोट-176412 
402756 + 135848
गोरखपुर उपचुनाव उपेंद्र दत्‍त शुक्‍ला
वोट-434788
    प्रवीण कुमार
वोट-456589 
- 21801
कुशीनगर राजेश पांडेय
वोट-370051
 राधेश्‍याम सिंह
वोट-111256
 डॉ. संगम मिश्र
वोट-132881 
244137 + 125914
महाराजगंज  पंकज
वोट-471542
अखिलेश
वोट-213974
निशिकांत शुक्‍ल
वोट-231084 
445058 + 26484
मिर्ज़ापुर अनु्प्रिया पटेल (अपना दल)
वोट-436500 
सुरेंद्र सिंह पटेल
वोट-108859
 समुद्र विंद
वोट-217457 
326316 + 110184
रॉबर्ट्सगंज छोटे लाल
वोट-378211
पीएल कोल
वोट-135966
 शारदा प्रसाद
वोट-187652 
323618 + 54593
सलेमपुर रवींद्र कुशवाहा
वोट-391636
हरिवंश सहाय वोट-159688 रविशंकर
वोट-159871
319559 + 72077
वाराणसी नरेंद्र मोदी
वोट-580423
कैलाश चौरसिया वोट-45291 विजय प्रकाश जयसवाल
वोट-60534
105825 + 474598