close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव 2019: सपा से अलग होकर फिरोजाबाद से मैदान में हैं शिवपाल यादव, भतीजे से मुकाबला

शिवपाल की पार्टी की नाम प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) है.  उनके सामने सपा-बसपा-रालोद गठबंधन के प्रत्‍याशी और रामगोपाल यादव के बेटे व उनके भतीजे अक्षय यादव मैदान में हैं.

लोकसभा चुनाव 2019: सपा से अलग होकर फिरोजाबाद से मैदान में हैं शिवपाल यादव, भतीजे से मुकाबला
फिरोजाबाद से शिवपाल यादव मैदान में. फाइल फोटो

नई दिल्‍ली : लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha elections 2019) का परिणाम 23 मई को आ रहा है. उत्‍तर प्रदेश की फिरोजाबाद लोकसभा सीट से शिवपाल यादव चुनाव लड़ रहे हैं. वह सपा से अलग होकर अपनी पार्टी बनाकर मैदान में उतरे हैं. उनकी पार्टी की नाम प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) है.  उनके सामने सपा-बसपा-रालोद गठबंधन के प्रत्‍याशी और रामगोपाल यादव के बेटे व उनके भतीजे अक्षय यादव मैदान में हैं.

1. शिवपाल यादव का जन्म 6 अप्रैल, 1955 को इटावा के सैफई में हुआ था. उनके पिता सुघर सिंह किसान थे. शिवपाल यादव ने हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की पढ़ाई मैनपुरी से की. ग्रेजुएशन इटावा से किया और बीपीएड की डिग्री लखनऊ यूनिवर्सिटी से ली. 

2. शिवपाल सिंह यादव बचपन से ही सामाजिक और राजनीतिक गतिविधियों में काफी सक्रिय रहे हैं. आम लोगों के इलाज से लेकर सामाजिक कार्यक्रमों तक में उनकी मदद करने के लिए शिवपाल यादव अग्रसर रहते थे.

3. शिवपाल यादव 1994 से 1998 तक यूपी सहकारी ग्राम विकास बैंक के अध्यक्ष रहे. 1996 में उन्‍होंने जसवंतनगर सीट से विधानसभा चुनाव लड़ा. इस दौरान वह भारी मतों से जीते. 

4. 1996 से लेकर अब तक वह लगातार इस सीट से विधायक हैं. उत्‍तर प्रदेश में मुलायम सिंह यादव और अखिलेश सिंह यादव की नेतृत्‍व वाली सपा सरकार में शिवपाल ने कई अहम मंत्रालयों की जिम्‍मेदारी संभाली.

5. शिवपाल यादव को 2009 में समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष की जिम्‍मेदारी सौंपी गई. मायावती की सरकार के समय उन्होंने यूपी विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में अपनी जिम्मेदारी निभाई. 

6. बाद में भतीजे अखिलेश यादव से उनके मतभेद हुए और 31 जनवरी 2017 को आने वाले विधानसभा चुनावों के लिए उन्‍होंने नई पार्टी बनाने की घोषणा कर दी. 

7. 28 सितंबर, 2018 को उन्होंने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी नामक दल अपना दल बनाने का ऐलान किया.

8. 24 अक्‍टूबर, 2018 को चुनाव आयोग की अनुमति के बाद उन्‍होंने अपनी पार्टी का आधिकारिक नाम प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) घोषित कर दिया. 

9. शिवपाल यादव संगठन की राजनीति के पुराने खिलाड़ी हैं. सपा के पुराने कार्यकर्ताओं में उनकी आज भी पकड़ है. विपक्ष के नेता और अलग-अलग सरकारों में मंत्री रहे शिवपाल को भी यहां भारी समर्थन है. यह बात अलग है कि कुछ उनके विरोध में भी हैं.