लोकसभा चुनाव 2019: पुरी सीट पर तीन प्रवक्ताओं के बीच मुकाबला

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा इस बार यहां चुनाव लड़ रहे हैं. पात्रा के सामने चुनावी मैदान में मौजूदा सांसद पिनाकी मिश्रा हैं जो बीजेडी के प्रवक्ता हैं. कांग्रेस ने अमुख्य प्रवक्ता सत्यप्रकाश नायक को उतारा है.

लोकसभा चुनाव 2019: पुरी सीट पर तीन प्रवक्ताओं के बीच मुकाबला
बीजेपी उम्मीदवार संबित पात्रा और बीजेडी उम्मीदवार पिनाकी मिश्रा.

पुरी: लोकसभा चुनाव 2019 के तहत ओडिशा की पुरी सीट खासी चर्चित रही है. पुरी लोकसभा की वह सीट है जहां चुनाव तीन राजनीतिक दलों के प्रवक्ताओं के बीच मुकाबला है.  तीसरे चरण के तहत पुरी लोकसभा सीट पर मंगलवार (23 अप्रैल) को मतदान हुआ. 

न्यूज चैनलों की बहसों में छाए रहने वाले बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा इस बार यहां चुनाव लड़ रहे हैं. पात्रा के सामने चुनावी मैदान में मौजूदा सांसद पिनाकी मिश्रा हैं जो बीजेडी के प्रवक्ता हैं. कांग्रेस ने अपनी प्रदेश इकाई के मीडिया प्रकोष्ठ के प्रमुख एवं मुख्य प्रवक्ता सत्यप्रकाश नायक को चुनाव मैदान में उतारा है. 

बीजेडी का गढ़ रहा है पुरी
पुरी सीट को बीजेडी का गढ़ माना जाता है. 1998 के बाद से यहां के हर चुनाव में बीजेडी को कामयाबी हासिल हुई है. 2009 में यहां से बीजेडी के पिनाकी मिश्रा ने चुनाव 
जीता था. 2014 में मोदी लहर में भी बीजेडी यह सीट बचाने में कामयाब रही थी. 2014 में भी बीजेडी ने इस सीट से पिनाकी मिश्रा को उतारा था जो कि यह सीट जीतने में कामयाब रहे थे.  पिनाकी मिश्रा को 50.33% वोट मिले थे. जबकि दूसरे नंबर पर रही कांग्रेस को 25% और तीसरे नंबर रही बीजेपी को 20.76 प्रतिशत वोट मिले थे. 

प्रचार के दौरान दिखे तरह-तरह के रंग 
चुनाव प्रचार के दौरान कई तरह के रंग दिखे मतदाताओं को लुभाने के लिए उम्मीदवारों ने खासी मेहनत की है. संबित पात्रा प्रचार के लिए निकलने से पहले धोती कुर्ता के साथ ओड़िया ‘गमछा’ धारण करते नजर आए और सिर पर चंदन का टीका लगाते दिखे. कई बार उन्होंने सामुदायिक तलाब में डुबकी लगाई तो और ग्रामीणों के घरों पर नाश्ता करते भी नजर आए. 

पात्रा ने कहा, 'मैं आदर्श रूप में एक ओड़िया हूं, मेरा गमछा इस बात का प्रतीक है. मैं गरीब परिवार से हूं और बीजद के अत्यंत अमीर उम्मीदवार को चुनौती देने की हिम्मत  दिखाई है, जिसने लोगों की कभी चिंता नहीं की.' 

पुरी को क्यों चुना यह पूछने पर पात्रा ने कहा, 'क्योंकि मुझे नरेंद्र मोदी ने भेजा है और भगवान जगन्नाथ ने बुलाया है. आप तब तक यहां से नहीं लड़ सकते जब तक भगवान जगन्नाथ का आशीर्वाद न हो.' 

वहीं पिनाकी मिश्रा ने पात्रा के के पहनावे की आलोचना की और उन्हें मोदी सरकार के कपट का परिणाम बताया. मिश्रा ने कहा, 'भाजपा उम्मीदवार राजनीतिक लाभ के लिए भगवान जगन्नाथ का प्रयोग कर रहे हैं. पुरी के लोग इसे स्वीकार नहीं करेंगे.' मिश्रा ने कहा कि भाजपा एवं कांग्रेस दोनों के उम्मीदवार 'बाहरी' हैं जिनका पुरी के साथ कोई संबंध नहीं है. 

कांग्रेस के नायक जो पत्रकार से नेता बने हैं, पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं. उन्होंने भी कहा कि पुरी से प्रत्याशी बनाया जाना किस्मत की बात है.