VIDEO: प्रधानमंत्री की रैली में उमड़ी भीड़, पेड़ों पर चढ़े कार्यकर्ता, PM मोदी बोले- रिस्क मत लीजिए

पीएम मोदी की एक झलक पाने के लिए पेड़ों पर चढ़े कार्यकर्ताओं पर जैसे ही प्रधानमंत्री की नजर पड़ी तो, उन्होंने कार्यकर्ताओं से पेड़ों से नीचे उतरने की अपील की.

VIDEO: प्रधानमंत्री की रैली में उमड़ी भीड़, पेड़ों पर चढ़े कार्यकर्ता, PM मोदी बोले- रिस्क मत लीजिए
पीएम नरेंद्र मोदी ने कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा कि आप लोग अपने आपको संभालिए. मेरा आपसे अनुरोध है कि अगर आपको दिक्कत न हो तो नीचे आ जाइए.

मेंगलुरू: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के मद्देनजर राजनीतिक दलों के स्टार प्रचारक देश भर में चुनावी रैलियां कर रहे हैं. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कर्नाटक के मंगलौर में एक रैली को संबोधित किया. पीएम नरेंद्र मोदी जब रैली को संबोधित कर रहे थे तो उसी दौरान कुछ उत्साही कार्यकर्ता रैलीस्थल के पास लगे पेड़ों पर चढ़ गए. पीएम मोदी की एक झलक पाने के लिए पेड़ों पर चढ़े कार्यकर्ताओं पर जैसे ही प्रधानमंत्री की नजर पड़ी तो, उन्होंने कार्यकर्ताओं से पेड़ों से नीचे उतरने की अपील की.

 

 

पीएम नरेंद्र मोदी ने कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा कि आप लोग अपने आपको संभालिए. मेरा आपसे अनुरोध है कि अगर आपको दिक्कत न हो तो नीचे आ जाइए. उन्होंने कहा कि ऐसा रिस्क नहीं लेना चाहिए. मैं तो आपका ही हूं. दुबारा आऊंगा फिर मिलूंगा. पीएम मोदी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में थोड़ी सी कमी रह गई थी. एक छोटी सी गलती ने कितना बड़ा नुकसान कर दिया. उन्होंने कहा कि पिछली बार जो कमी रह गई, उसको ब्याज समेत पूरा करेंगे हम.

उन्होंने लोगों से सवाल करते हुए कहा कि पूरा कर्नाटक बर्बाद हो गया कि नहीं हो गया. क्या अब कर्नाटक फिर से ऐसा नुकसान होने देगा. उन्होंने कहा कि मैं एयरपोर्ट से जब यहां आ रहा था तो रास्ते के दोनों ओर लोगों की भारी भीड़ थी. मैंने सोचा कि अगर यहां इतनी भीड़ है तो रैली में कौन होगा. लेकिन, जब मैं यहां आया तो, उतनी ही संख्या में लोग यहां भी मौजूद हैं. 

पीएम मोदी ने कहा कि लोकसभा चुनाव प्रधानमंत्री या किसी सरकार के चुनाव के लिए नहीं बल्कि 21वीं शताब्दी में 'न्यू इंडिया (नया भारत)' कैसा हो, इसके लिए हैं. उन्होंने कांग्रेस पर भी निशाना साधा और कहा कि देश ने उसे 20वीं शताब्दी में एक अवसर दिया था किंतु उसने इसे एक परिवार को सौंप कर अवसर को गंवा दिया. कर्नाटक की कांग्रेस-जेडीएस सरकार को आड़े हाथ लेते हुए मोदी ने कहा कि दोनों सत्तारूढ़ भागीदारों के लिए प्रेरणा 'परिवारवाद' है जबकि भाजपा के लिए यह 'राष्ट्रवाद' है.