योगी ने दिया लोहिया की भविष्यवाणी का हवाला, कहा- 25 वर्षों तक PM रहेंगे नरेंद्र मोदी

योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीबों को केंद्र में रखकर उनके लिए शौचालय और ईंधन उपलब्ध कराने की योजनाएं बनाई हैं. 

योगी ने दिया लोहिया की भविष्यवाणी का हवाला, कहा- 25 वर्षों तक PM रहेंगे नरेंद्र मोदी
फाइल फोटो

गोरखपुर: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) का सियासी रण अपने अंतिम दौर में पहुंच चुका है. 19 मई को सातवें चरण में 8 राज्यों की 59 सीटों पर मतदान होना है. इन सबके बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को न्यूज एजेंसी पीटीआई को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि भारत में समाजवाद के प्रणेता रहे राम मनोहर लोहिया ने बहुत पहले सुझाव दिया था कि देश में वहीं शासन कर पाएगा, जो गरीबों के लिए काम करेगा. 

योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीबों को केंद्र में रखकर उनके लिए शौचालय और ईंधन उपलब्ध कराने की योजनाएं बनाई हैं. इसी वजह से पीएम मोदी देश आने वाले कई वर्षों तक देश को चलाने के लिए तैयार हैं. इसके साथ ही सीएम योगी ने दावा किया कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी 80 में से 74 लोकसभी सीटों पर जीत हासिल करेगी. 

 

 

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि समाजवादी नेता लोहिया ने संसद में पूर्व पीएम इंदिरा गांधी से कहा था कि यह देश गांवों में रहता है. जो पीएम इस देश के गरीब व्यक्ति के घर में शौचालय और उसकी ईंधन की जरूरतें पूरी करेगा, वह कम से कम 25 वर्षों तक शासन करेगा. योगी ने कहा कि लोहिया का सपना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरा किया है और बीजेपी 2019 के चुनावों के बाद स्पष्ट बहुमत से सरकार बनाएगी. 

उन्होंने कहा कि लोहिया ने यह बात 1966-1967 में कही थी, लेकिन उनका सपना अब पूरा हो रहा है. उन्होंने कहा कि लोहिया के नाम पर इस देश में कई लोगों की राजनीति चलती है लेकिन, उनके इस सपने को पीएम मोदी ने ही पूरा किया. 

योगी ने कहा कि यह चुनाव उन सभी पूर्वानुमानों को चकनाचूर कर देगा, जो जाति, धर्म, क्षेत्र और वोट बैंक के आसपास चक्कर लगा रहे हैं. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार में 1.5 करोड़ लोगों को आवास, 4 करोड़ लोगों को बिजली कनेक्शन और 7 करोड़ महिलाओं को मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन दिए गए. बीते 5 वर्षों में 10 करोड़ शौचालय, 12.5 करोड़ किसानों को किसान सम्मान योजना के तहत सहायता, 15 करोड़ युवाओं को मुद्रा योजना और 37 करोड़ जन-धन खाते खोले गए. उन्होंने कहा कि ये ऐसे आंकड़े हैं जो जाति, क्षेत्र, धर्म, वोट बैंक या भाषा पर आधारित नहीं हैं.