लखनऊ: शत्रुघ्न सिन्हा और डिंपल यादव के साथ SP की पूनम सिन्हा ने किया रोड शो, किया नामांकन

लखनऊ में नामांकन करने के बाद पूनम सिन्हा ने रोड शो किया. इस रोड शो में डिंपल यादव भी साथ रहीं. इसके अलावा पूनम सिन्हा के पति शत्रुघ्न सिन्हा भी रोड शो में शामिल हुए.

लखनऊ: शत्रुघ्न सिन्हा और डिंपल यादव के साथ SP की पूनम सिन्हा ने किया रोड शो, किया नामांकन
नामांकन के बाद रोड शो करतीं पूनम सिन्हा. (फोटो साभार- @samajwadiparty)

लखनऊ: लोकसभा चुनाव 2019 के लिए लखनऊ लोकसभा सीट के लिए शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी और लखनऊ लोकसभा क्षेत्र से सपा-बसपा औपर आरएलडी की उम्मीदवार पूनम सिन्हा ने गुरुवार को अपना नामांकन दाखिल कर दिया. मंगलवार (16 अप्रैल) को पूनम सिन्हा समाजवादी पार्टी में शामिल हुईं थीं. पार्टी में शामिल होने से पहले ही ये कयास लगाए जा रहे थे कि समाजवादी पार्टी में शामिल होने के बाद पार्टी उन्हें लखनऊ से बीजेपी सांसद राजनाथ सिंह के सामने चुनावी मैदान में उतारेगी. पार्टी में शामिल होने के कुछ घंटों बाद ही ऐलान हुआ कि पूनम लखनऊ सीट से महागठबंधन की उम्मीदवार होंगी. वहीं, कांग्रेस ने आचार्य प्रमोद कृष्णम को अपना उम्मीदवार बनाया है.

Lucknow: poonam sinha did road show before nomination

नामांकन से पहले किया रोड शो
लखनऊ में नामांकन करने के बाद पूनम सिन्हा ने रोड शो किया. इस रोड शो में डिंपल यादव भी साथ रहीं. इसके अलावा पूनम सिन्हा के पति शत्रुघ्न सिन्हा भी रोड शो में शामिल हुए.

 

बुधवार को अखिलेश के किया था टिकट का ऐलान
सपा में शामिल होने के बाद बुधवार (17 अप्रैल) को पार्टी ने उन्हें लखनऊ से टिकट देने का औपचारिक ऐलान किया. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि लखनऊ में सपा सरकार के दौरान हुए कार्यों को आगे बढ़ाया जाएगा. उन्होंने कहा कि लखनऊ की पहली सांसद एक महिला ही थीं, इसलिए हमने भी महिला को ही प्रत्याशी बनाने का फैसला किया. 

डिम्पल यादव ने दिलाई था सपा सदस्यता
मंगलवार को पूनम ने समाजवादी पार्टी की नेता डिम्पल यादव से मुलाकात की. इस मुलाकात के दौरान ही डिम्पल यादव ने पूनम को समाजवादी पार्टी की सदस्यता दिलाई.

पहले भी उतारे हैं पैराशूट उम्मीदवार
राजनाथ सिंह के खिलाफ सपा ने फिल्म अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा को तो कांग्रेस ने आचार्य प्रमोद कृष्णन को लखनऊ संसदीय सीट से मैदान में उतारा है. यह पहला मामला नहीं है, इससे पहले भी कांग्रेस और सपा दूसरे राज्यों से जुड़े लोगों को उम्मीदवार बना चुकी है, लेकिन कोई भी जीत नहीं पाया.  

बीजेपी की गढ़ है लखनऊ
नवाबों के इस खूबसूरत शहर पर पिछले 28 साल से भारतीय जनता पार्टी का कब्जा है और उसमें भी लंबे समय तक पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने लोकसभा में इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया. 1991, 1996,1998,1999 और 2004 के लोकसभा चुनावों में इस सीट से वाजपेयी विजयी रहे थे. 2009 में यहां से लाल जी टंडन जीते और 2014 में राजनाथ सिंह इस सीट से भारी मतों से जीतें. इस बार एक बार फिर राजनाथ सिंह यहां से भाजपा के उम्मीदवार हैं.