close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दरभंगा : टिकट नहीं मिलने पर फातमी ने अपनाया बागी तेवर, कहा- 6 सीटों पर पड़ेगा असर

प्रेस वार्ता में फातमी ने कहा कि दो जगहों से उनका नॉमिनेशन फार्म तैयार है. इस दौरान उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ने के संकेत भी दिए.

दरभंगा : टिकट नहीं मिलने पर फातमी ने अपनाया बागी तेवर, कहा- 6 सीटों पर पड़ेगा असर
मधुबनी से टिकट नहीं मिलने से नाराज हैं फातमी.

दरभंगा : टिकट नहीं मिलने से नाराज राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) नेता और दरभंगा से पूर्व सांसद अली अशरफ फातमी ने बागी तेवर अपना लिए हैं. शुक्रवार को वह अपने आवास पर पार्टी और अपने समर्थकों की आपात बैठक बुलाई. इसके बाद मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा तीन अप्रैल को दरभंगा और मधुबनी के समर्थकों से साथ एक जनसभा करेंगे. इसके बाद आगे के लिए बड़ा फैसला लेंगे.

प्रेस वार्ता में फातमी ने कहा कि दो जगहों से उनका नॉमिनेशन फार्म तैयार है. इस दौरान उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ने के संकेत भी दिए. कहा जा रहा है कि दरभंगा और मधुबनी में से कहीं एक जगह से वह चुनाव लड़ सकते हैं. उन्होंने कहा कि पार्टी के कई नेता उनके संपर्क में हैं.

मीडिया से बात करते हुए फातमी ने कहा कि बिहार में आरजेडी को मिलने वाले मतों में सर्वाधिक संख्या मुसलमानों का है. उन्होंने कहा कि 30 वर्षों से आरजेडी के सेवा की. आरजेडी में मुसलमान नेता के रूप में 4 बार सांसद भी रहे. उन्होंने कहा कि मुझे टिकट नहीं मिलने से पांच से छह सीटों पर इसका असर पड़ेगा. पार्टी को इसका खमियाजा भुगतना पड़ेगा. इस दौरान उन्होंने यहां तक कहा कि लालू यादव के इशारे पर सभी टिकटों का फैसला हुआ है.

साथ ही फातमी ने यह भी कहा कि मैं कोई बीजेपी के शाहनवाज़ हुसैन जैसे मुस्लिम नेता नहीं हूं, जिसे बिना कारण दूध में गिरी मक्खी की तरह निकाल कर पार्टी फेंक दिया. आरजेडी को मिलने वाले वोट में मुसलमान वोटरों की संख्या आधे से अधिक है.

फातमी ने कहा कि तीन महीने पहले पार्टी ने मुझे मधुबनी से चुनाव लड़ने की बात कही थी. मैं लगातार वहां के लोगों के सम्पर्क में था. आम जनता में खुशी थी. फिर किसकी साजिश से वहां की सीट वीआईपी के खातें में चली गई. मैं इस साजिश को समझता हूं. समय पर सब साफ हो जाएगा.