close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

डॉक्यूमेंट्री के रूप में सामने आएगी लोकसभा चुनाव 2019 की कहानी, नेशनल जियोग्राफिक पर होगा प्रसारण

सात चरण का लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल को शुरू हुआ था और 19 मई को समाप्त हुआ. मतगणना 23 मई को होगी.

डॉक्यूमेंट्री के रूप में सामने आएगी लोकसभा चुनाव 2019 की कहानी, नेशनल जियोग्राफिक पर होगा प्रसारण
फाइल फोटो

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के सात चरण के दौरान हुए नाटकीय घटनाक्रमों और उस दौरान सामने आयी चुनौतियों को एक नये वृत्तचित्र में शामिल किया गया है. इसमें चुनाव आयोग के शीर्ष स्तर से लेकर बूथ स्तर के अधिकारियों और शीर्ष नेताओं से लेकर जमीनी स्तर के पार्टी कार्यकर्ताओं को भी शामिल किया गया है. 2019 लोकसभा चुनाव में देशभर में 8049 उम्मीदवार मैदान में थे. 

नेशनल जियोग्राफिक ने पिछले कुछ महीने के दौरान एक फिल्म शूट की है. इसमें चुनाव प्रचार के दौरान हुए घटनाक्रम और पार्टी के ‘वार रुम’ में हुए महत्वपूर्ण घटनाक्रमों को शामिल किया गया है. इसके साथ ही इसमें चुनाव के दौरान सोशल मीडिया की भूमिका पर भी प्रकाश डाला गया है. नेटवर्क के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘मल्टीक्रू प्रोडक्शन ने देशभर में 37 स्थलों पर शूटिंग की जो कि विश्व में सबसे बड़ी लोकतांत्रिक कवायद की कहानी कहेगी.’’ अधिकारी ने बताया कि फिल्म में जिन शहरों में शूटिंग की गई उनमें वाराणसी, अमेठी, नागपुर, सलेम और बिशिंग शमिल हैं.

 

नेशनल जियोग्राफिक ने एक बयान में कहा, ‘‘कैमरों में विश्व के सबसे बड़े चुनाव की कहानी को कैद करने के दौरान चुनाव आयोग के शीर्ष स्तर से लेकर बूथ स्तर के अधिकारियों तथा शीर्ष नेताओं से लेकर जमीनी स्तर के पार्टी कार्यकर्ता को भी शामिल किया गया. इसके साथ ही इसमें पहली बार मतदान करने वाले से लेकर 100 वर्ष के मतदाता को भी शामिल किया गया.’’ सात चरण का लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल को शुरू हुआ था और 19 मई को समाप्त हुआ. मतगणना 23 मई को होगी.

नेटवर्क ने कहा कि इस वृत्तचित्र का शीर्षक अभी तय नहीं किया गया है. इस वृत्तचित्र का प्रसारण नेशनल जियोग्राफिक चैनल पर जल्द होगा. स्टार इंडिया की प्रेसीडेंट एवं उपभोक्ता रणनीति और नवाचार प्रमुख गायत्री यादव ने कहा, ‘‘नेशनल जियोग्राफिक उस लोकतंत्र की कहानी बताने को लेकर उत्सुक है जो कि पूरे विश्व के लिए प्रासंगिक है.’’