close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नवजोत कौर सिद्धू बोलीं, 'कैप्टन और आशा कुमारी ने नहीं दिया अमृतसर से टिकट'

'जब कैप्टन साहब और आशा कुमारी ने सभी (13) सीटों पर पार्टी की जीत सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी ली है, तो फिर पंजाब में चुनाव प्रचार के लिए नवजोत (सिद्धू) की क्या जरूरत है?'  

नवजोत कौर सिद्धू बोलीं, 'कैप्टन और आशा कुमारी ने नहीं दिया अमृतसर से टिकट'
फोटो सौजन्य: ANI

नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के अंतिम चरण में पंजाब की 13 लोकसभा सीटों पर वोटिंग होनी है. अंतिम चरण में 8 राज्यों की 59 सीटों पर होने वाली वोटिंग के लिए शुक्रवार शाम 5 बजे प्रचार समाप्त हो जाएगा. कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू ने लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की तरफ से अमृतसर सीट से नहीं नहीं दिए जाने को लेकर सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और पंजाब की प्रभारी आशा कुमारी जिम्मेदार ठहराया है.

नवजोत कौर ने कहा, 'मैंने अमृतसर के अलावा किसी और सीट के बारे में चर्चा ही नहीं थी, आशा कुमारी जी ने कहा कि दशहरा हादसे ने मेरी छवि धूमिल की है. अमृतसर मेरी गृह सीट है, यह सही नहीं है मुझे बठिंडा से चुनाव लड़ने को कहा जाए जबकि मैं वहां किसी को जानती नहीं हूं.' 

'राहुल गांधी सबसे बड़े कैप्टन हैं' 
14 मई की खबर के मुताबिक नवजोत कौर ने कहा था कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू को अपने गृह राज्य में पार्टी के लिए प्रचार नहीं करने के लिए कहा है. ऐसी खबरें आई  थीं कि सिद्धू की सेहत प्रचार करने की इजाजत नहीं दे रही है. लेकिन उनकी पत्नी ने सिद्धू को पंजाब में प्रचार करने की अनुमति नहीं देने के लिए पार्टी की पंजाब प्रभारी आशा कुमारी को भी जिम्मेदार ठहराया है. 

उन्होंने यहां पत्रकारों से कहा, 'कैप्टन साहब छोटे कैप्टन हैं और राहुल गांधी सबसे बड़े कैप्टन हैं और उन्होंने उन्हें (सिद्धू) अन्य राज्यों में जिम्मेदारी दी है और नवजोत (सिद्धू) वहां चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं.'नवजोत कौर ने कहा, 'जब कैप्टन साहब और आशा कुमारी ने सभी (13) सीटों पर पार्टी की जीत सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी ली है, तो फिर पंजाब में चुनाव प्रचार के लिए नवजोत (सिद्धू) की क्या जरूरत है?'  

'मुझे टिकट न दिए जाने के लिए अमरिंदर सिंह जिम्मेदार'
कौर ने कहा, 'मैं अमृतसर (लोकसभा सीट) से चुनाव लड़ने की इच्छुक थी, लेकिन मुझे टिकट देने से मना कर दिया गया. वास्तव में मुझे टिकट नहीं दिए जाने के लिए अमरिंदर सिंह जिम्मेदार हैं.' वह चंडीगढ़ से भाजपा उम्मीदवार किरण खेर के खिलाफ भी चुनाव लड़ने की इच्छुक थीं.