बारगढ़: एक बार फिर ओडिशा की इस लोकसभा सीट पर हैं सबकी निगाहें

इस सीट पर दूसरे चरण के तहत 18 अप्रैल को वोट डाले गए थे. 

बारगढ़: एक बार फिर ओडिशा की इस लोकसभा सीट पर हैं सबकी निगाहें

नई दिल्ली: ओडिशा की बारगढ़ लोकसभा सीट पर पिछले चुनाव में बीजेपी और बीजेडी के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिली थी. इस सीट पर दूसरे चरण के तहत 18 अप्रैल को वोट डाले गए थे. 

2014 में बीजेपी के सुभाष चौहन सिर्फ 11,178 वोटों के अंतर से हारे थे. इस बार बीजेपी ने इस सीट को हासिल करने के लिए पूरी शक्ति झोंक दी है. 2014 में इस नजदीकी लड़ाई की वजह से बारगढ़ लोकसभा सीट के नतीजे पर सबकी निगाहें टिकी हुई है

2014 का चुनाव के नतीजे
2014 में यहां से बीजेडी के डॉ. प्रभास कुमार सिंह चुनाव जीते थे उन्हें 3,83,230 (34.11%) वोट मिले थे. जबकि बीजेपी के सुभाष चौहान को 3,72,052 वोट मिले थे. तीसरे नंबर पर रहे थे कांग्रेस के संजय भोई जिन्हें 2,74,610 वोट मिले थे. 

2009 में कांग्रेस को मिली थी जीत
इससे पहले 2009 में यहां से कांग्रेस संजय भोई जीते थे. हालांकि 2014 में वह अपनी सीट नहीं बचा सके. इस सीट पर 1952 में चुनाव हुआ था लेकिन इसके बाद इस सीट को खत्म कर दिया गया और 1956-2008 यह सीट अस्तित्व में नहीं थी.  

बारगढ़ लोकसभा क्षेत्र के दायरे में विधान सभा की 7 सीटें आती हैं.  इनके नाम हैं पदमपुर, बीजेपुर, बारगढ़, अट्टाबिरा, भटली, ब्रजराजनगर, झारसुगुड़ा.