पप्पू यादव का बड़ा बयान, कहा- 'नीतीश का स्वभाव उन्हें UPA में ले जाएगा'

बिहार के विकास के आधार पर और अपने स्वभाव के कारण नीतीश कुमार अपनी गलतियों को सुधारेंगे और फिर वह यूपीए में चले जाएंगे. 

पप्पू यादव का बड़ा बयान, कहा- 'नीतीश का स्वभाव उन्हें UPA में ले जाएगा'
पप्पू यादव ने कहा कि कहा कि लालू यादव के परिवार की गलतियों के कारण बीच में नीतीश कुमार नहीं जा पाए.

पटना: कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद के बयान का समर्थन करते हुए मधेपुरा सांसद पप्पू यादव ने कहा है कि चुनाव के बाद नीतीश कुमार यूपीए में चले जाएंगे. उन्होंने तर्क देते हुए कहा कि बिहार के विकास के आधार पर और अपने स्वभाव के कारण नीतीश कुमार अपनी गलतियों को सुधारेंगे और फिर वह यूपीए में चले जाएंगे. उन्होंने कहा कि लालू यादव के परिवार की गलतियों के कारण बीच में नीतीश कुमार नहीं जा पाए. 

इस मामले में पहले नीतीश कुमार ने गलती की फिर हम लोगों से भी करती हुई लेकिन अपने स्वभाव के कारण नीतीश कुमार अपनी गलती को सुधारेंगे और यूपीए में चले जाएंगे. पप्पू यादव ने कहा कि नीतीश कुमार की राजनीति से ऐसा लगता है कि वो ऐसा जरूर करेंगे. 

 

पप्पू यादव ने कहा कि अगर यह गलती नहीं हुई होती तो उत्तर प्रदेश की तरह बिहार में भी एक बड़ा महागठबंधन खड़ा होता और एनडीए का पूरी तरह से सफाया हो गया होता. नीतीश कुमार को  लालू यादव द्वारा लिखी गई चिट्ठी को आधार बनाते हुए पप्पू यादव ने लालू यादव पर भी निशाना साधा और सवाल पूछा है. उन्होंने कहा कि तीर और लालटेन, जाति और धर्म अपराध नहीं है बल्कि अपराध तो ये नेता हैं. इसलिए लालू प्रसाद यादव ने सेंटीमेंटल होकर इमोशनल ब्लैकमेल करने के लिए अंतिम चरण में तब चिट्ठी लिखा जब उनके परिवार के लोग चुनाव लड़ रहे हैं. पप्पू यादव ने कहा कि लालू यादव ने चिट्ठी लिखी लेकिन ये पहले क्यों नहीं लिखी गई. उन्होंने यह भी सवाल किया है कि दो साल पहले आपको तीर और लालटेन की चिंता क्यों नहीं हुई. प्रगति और विकास आपके लिए बाधक क्यों रहा जब सब कुछ बिजली से चलता है.

दरअसल पप्पू यादव बक्सर से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे रामचंद्र यादव के समर्थन में लोगों से वोट के लिए अपील करने पहुंचे थे. पत्रकारों से बात करते हुए पप्पू यादव ने महागठबंधन के प्रत्याशी जगदानंद सिंह के अलावे नीतीश और बीजेपी पर भी जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि 90 के दशक के बाद महागठबंधन के प्रत्याशी जगदानंद सिंह ने शाहाबाद के अंदर किसी भी पॉलीटिकल चेहरे को उभरने नहीं दिया. इसलिए हम लोगों ने रामचंद्र यादव को उम्मीदवार बनाया है.