close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'जिन्होंने नरसिम्हा राव का अपमान किया वह मान सम्मान की बात न करें', पढ़ें पीएम मोदी का पूरा इंटरव्यू

राजीव गांधी के अपमान के सवाल पर उन्होंने कहा, मैंने उनका कोई अपमान नहीं किया, सिर्फ कुछ सवाल उठाए हैं, जिनका उन्हें जवाब देना होगा. जिस कांग्रेस ने अपने ही नेता नरसिम्हा राव का अपमान किया, अगर वह मान सम्मान की बात न करे तो ही अच्छा है. जी न्यूज के इस शुद्ध राजनीतिक इंटरव्यू में पीएम मोदी ने हर सवाल का जवाब बड़ी बेबाकी से दिया.

'जिन्होंने नरसिम्हा राव का अपमान किया वह मान सम्मान की बात न करें', पढ़ें पीएम मोदी का पूरा इंटरव्यू

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी न्यूज के साथ बातचीत कहा, कांग्रेस अगर मान सम्मान की बात न करे तो ही अच्छा है. राजीव गांधी के अपमान के सवाल पर उन्होंने कहा, मैंने उनका कोई अपमान नहीं किया, सिर्फ कुछ सवाल उठाए हैं, जिनका उन्हें जवाब देना होगा. जिस कांग्रेस ने अपने ही नेता नरसिम्हा राव का अपमान किया, अगर वह मान सम्मान की बात न करे तो ही अच्छा है. जी न्‍यूज के एडिटर इन चीफ सुधीर चौधरी के साथ इस शुद्ध राजनीतिक इंटरव्‍यू में पीएम नरेंद्र मोदी ने दावा किया कि 23 मई को देश में फिर बीजेपी की सरकार बनेगी. पढ़िए दूसरे सवालों पर पीएम मोदी ने क्या क्या कहा....

23 मई पर आपके विरोधी आपकी विदाई के सपने देख रहे हैं?
विरोधी लोग क्या सोच रहे हैं मुझे नहीं मालूम. विपक्षी दल ख्वाबों में वो खोए रहें. जहां तक चुनाव का सवाल है. मैं सारे देश का भ्रमण कर चुका हूं. पिछले 5 साल मैं दफ्तर में कैद नहीं था. कोई साटरडे-संडे नहीं था. ये मैं अपने अनुभवों के आधार पर बता सकता हूं कि जनता देश में मजबूत, निर्णायक सरकार चाहती है. 2014 लोगों में कौतूहल था. 2019 में उन्होंने मोदी को निकट से देखा है. जाना है. मेरा काम बोल रहा है. आम तौर पर सरकारें जो चलती थीं वो समझते थे कि कानून बना दिया और डिलिवरी के लिए राज्यों पर निर्भर रहती थी. लेकिन मैंने लाभार्थियों के साथ बात की इन सारे अनुभवों के आधार पर मेरा पक्का विश्वास है कि देश की जनता ने 2019 में बीजेपी को पहले से ज्यादा सीट देने का फैसला किया है. साथ एनडीए को ज्यादा सीटें देने का फैसला किया है. जिन राज्यों में कम सीटें थीं हमें वहां भी सीटों का इजाफा होगा. जहां तक बोरिया बिस्तर का सवाल है तो मैं हर चीज के लिए तैयार है.

पीएम मोदी ने कहा, मेरी जिंदगी एक झोले में होती है. उनको ख्वाब का मजा लेने दीजिए. अगर आपने कहा कि मोदी जी ने कहा कि वो रहने वाले हैं तो उनकी नींद डिस्टर्ब हो जाएगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आएंगे तो मोदी जी के जोक पर कहा,
अगर किसी को ये जोक्स दिखता है तो वह गंभीर चर्चा के काबिल नहीं हैं. देश की जनता ने तय कर लिया है.

प्रधानमंत्री से जी न्यूज के एडीटर इन चीफ ने पूछा, आप राजनीति के शोले बनना चाहेंगे या फिर एवेंजर्स.. इस पर पीएम ने कहा, 'राजनीति में सच्चाई की धरातल पर जीना चाहिए. रील लाइफ और रियल लाइफ में फर्क है. मैं कभी भी ना सपनों की दुनिया में रहता हूं ना ही एडवेंचर की फिल्मी दुनिया में होना चाहिए. मेरा काम करने का तरीका पक्का है.'

2019 एक साइलेंट इलेक्शन है, आप किस लहर पर दावा करते हैं?
मीडिया वाले जो हमारा एनालिसिस करते हैं, कभी अपना भी एनालिसिस करें. हमारा हिसाब मांगा जाता है उनका कोई हिसाब नही मांगता. 23 के बाद ही चर्चा करते हैं. देश की जनता बोलेगी औऱ ईवीएम बोलेगी.

परिणाम आपके अनुरूप आए तो ईवीएम पर सवाल उठेंगे, इस पर क्या कहेंगे?
इसकी तैयारी तो अभी से चल रही है. जैसे कोई खिलाड़ी आउट होता है तो अंपायर को देखकर गुस्सा करता है. वैसा ही ये विपक्ष वाले करने वाले हैं. कितना फेयरप्ले है. पूरी दुनिया भारत के लोकतंत्र के लिए खुश है. हम ही हैं जो खुद को कोसते हैं, जो लोग सिवाय सत्ता के नहीं रहे हैं, उनकी सोच के बाहर अगर कोई चीज सही होती है तो उन्हें गलत लगता है. हम सबको मिलकर दुनिया में लोकतंत्र की ब्रांडिंग करनी चाहिए.

क्या सभी को समान बेंच मार्क पर तौला जाता है?
मेरी जिंदगी में कभी रॉन्ग साइड ड्राइविंग का गुनाह भी नहीं हुआ. मेरे जीवन में कोई FIR नहीं लिखी गई. पहली FIR 2014 में लिखी गई. पहली बार जिंदगी में झूठा केस बनाकर FIR लिखाई गई. जब मैं पहली बार नॉमिनेश करने गया तब तय था कि रोड शो के बाद पब्लिक मीटिंग करेंगे और फिर नॉमिनेशन करूंगा. लेकिन पब्लिक मीटिंग हर बार लास्ट मोमेंट में केंसल कर दिया जाता था. मैंने किसी के ऊपर आरोप नहीं लगाया.

प्रियंका आपको दुर्योधन कहती हैं और सोनिया आपको मौत का सौदागर कहती हैं, क्या कहेंगे?
ये तो उनको पूछना चाहिए क्यों इस प्रकार के भाषण करते हैं.

क्या ये मुद्दा रहित चुनाव है, क्या ये चुनाव में सिर्फ मोदी मुद्दा है?
चुनाव को अगर आप नेताओं भाषण और टीवी की टीआरपी के तौर देखोगे तो ये सही है, लेकिन मतदाता को समझ है कि कौन काम करता है. कौन खजाने का सदुपयोग करता है औऱ कौन अपने समय का उपयोग लोगों के लिए करता है. बहुत अरसे बाद कहा जा रहा है कि देश में प्रधानमंत्री भी होता है.

विपक्ष के लिए आप इनता बड़ा मुद्दा कैसे बन गए?
मुझे खुशी होती कि अगर वो एक साथ होते, लेकिन वो मतदाता को कनफ्यूज कर रहे हैं. मोदी वेव में बचना है तो एक दूसरे का हाथ पकड़ना पड़ेगा. लेकिन वो एक दूसरे के विरोधी हैं. एक साल पहले कांग्रेस और सपा ने समझौता किया. अब कांग्रेस वोट काटने वाली पार्टी बन गई है. दिल्ली में भी यही हुआ.

क्या आपकी लहर चल रही है?
ये प्रो इनकमबैंसी वेव है. 2014 का चुनाव सरकार के खिलाफ था.  ये चुनाव ना पार्टी लडती है ना मोदी लड़ता है. ये चुनाव देश की जनता लड़ रही है.

पिछली बार आपके वोट में जबरदस्त उछाल था, इस बार क्या ऐसा होगा?
मुझे लगता है कि इन सारी चीजों को काउंटिंग के बाद सोचना चाहिए. बीजेपी के आज सिटिंग एमपी हैं उनसे ज्यादा विक्टरी होगी. एनडीए की संख्या भी बड़ेगी. देश के अन्य भागों में संतुलित परिणाम मिलेगा. पहले से ज्यादा वोट मिलेंगे.

लोकसभा चुनाव में अगर परिणाम आपके अनुरूप नहीं आता है तो तो प्लान बी क्या है?
इस सवाल से आपको मुसीबत आ जाएगी. इसलिए ये सवाल फिजूल सवाल है. बीजेपी और एनडीए की संख्या बढ़ने वाली है. इसलिए सारे प्लान एक ही हैं. 23 तारीख को रिजल्ट आएगा और आप तैयारी कीजिए शपथ ग्रहण के लिए.

गठबंधन की सरकार से मोदी कमजोर हो सकते हैं?
मैं फिर कहता हूं कि बीजेपी पूर्ण बहुमत के साथ फिर आ रही है. एनडीए के पहले से ज्यादा सांसद जीत रहे हैं. 5 साल का अनुभव दिखने वाला है. देश की समझदारी पर विश्वास करते हैं. मेरे विरोधियों के वह दाना पानी है उनको कहने दीजिए.

ममता बनर्जी से आपकी क्या समस्या है?
अच्छा होगा कि ममता बनर्जी का हिसाब लगा लीजिए. क्या संविधान आपको कहने का अधिकार देता है आप प्रधानमंत्री को नहीं मानेंगे. पाकिस्तान का पीएम आपको पीएम दिखता है. यहां का नहीं. किसी राज्य के सीएम का आप हेलिकॉप्टर नहीं उतरने देते हैं. कल मेरी सभा के लिए अनुमति मिली. मेरी या मेरी साथियों के रैली में 200 किलोमीटर की दायरे में लोगों को परेशान करते हैं कि कुर्सी और माइक टेंट दिया तो अच्छा नहीं होगा. ममता बनर्जी देश के लिए बहुत बड़ा खतरा हैं. इस तरह की सोच देश के लिए खतरा है. बहुत नुकसान हो रहा है देश का. हमारे देश में जो अपने आप को विद्वान मानते हैं अगर गंभीरता से सोचेंगे तो देश का भला होगा. ये पूरी तरह से संवैधानिक इश्यू है. वहां पर गवर्नर ने चीफ सेक्रेटरी से रिपोर्ट मांगा फिर गवर्नर ने मुझे लिखा कि उन्हे राज्य सरकार के कोई जवाब नहीं मिला है. आज वह स्थिति नहीं है. मैं किसी को वैकेशन नहीं लेने देता और बहुत काम दे देता हूं.

राजीव गांधी पर आपने सवाल उठाए
मैंने ये मेरी सभा में बोला.. नामदार ने कहा उनकी सोची समझी रणनीति है कि पीएम को बदनाम करेंगे. मैंने कहा कि आप इस तरह की राजीनीति कर रहे हैं. आप षड़यंत्र कर रहे हैं. किसी ने मेरी छवि बनाई नहीं है. मैं 45 साल तक तप करके निकला हूं.  ये दरबारियो ने एक पीएम की मिस्टर क्लीन की छवि बनाई थी... मैंने एक खराब शब्द उपयोग नहीं किया. क्या इंदिरा जी के स्वर्गवास के बाद इमर्जेंसी की चर्चा नहीं होगी. आपने नरसिम्हा राव की डेड बॉडी आपने कांग्रेस दफ्तर तक नहीं जाने दी थी. मैंने सिर्फ मुद्दा उठाया है.. मैंने कोई अपशब्द नहीं उठाया है. आपको भी जवाब देना होगा. अब अमेठी में ड्रामेबाजी करो. इसीलिए मैंने कहा भोपाल में दिल्ली में पंजाब में उनके सम्मान के लिए चुनाव लड़े. आपको एंडरसन को भगाने के आरोप का जवाब देना होगा. आपको ट्रिपल तलाक पर जवाब देना होगा. आपको क्वात्रोची पर जवाब देना होगा. आपको सिखों के कत्लेआम पर जवाब देना होगा. आपको अपने मुख्यमंत्री पर जवाब देना होगा. पीएम से इसलिए सवाल है. मेरे पिता को आप गाली नहीं दे सकते, क्योंकि वह सार्वजनिक जीवन में नहीं थे. वह आम इनसान थे.

आप पहले पीएम हैं जिसे इतने अपशब्द कहे गए, कैसा लगता है आपको?
मैं ये जहर पिछले 20 साल से पी रहा हूं. मैंने लिस्टिंग किया है. अगर आप टीवी पर दिखाएंगे तो अच्छा रहेगा. मेरे जैसे करोड़ो लोग डगर डगर अपमान सहे हैं. हमने वो भी जिंदगी देखी है.. रेलवे के डिब्बे में हमें डांटते थे. हम मान के चलते हैं कि हमारा जन्म ही गरीबी में हुआ है. मुझे जो गालियां पड़ती हैं ये उनकी मानसिकता है.

आपको दुख नहीं होता?
हम देश के लिए काम कर पा रहे हैं, क्योंकि हम संवेदनशील हैं. आहत तो हम होते हैं. लेकिन जिम्मेदारियों का अहसास है इसलिए उस दुख को आगे नहीं आने देते.

मोदी एक कड़क आदमी है, आपकी ये पहचान कैसे है?
एक सीमित वर्ग है जो इस तरह की बात करता है.

आपकी असली सोच क्या है?
युद्ध किसी भी समस्या का समाधान नहीं., ये मेरा मानना है.. लेकिन शांति निर्बल लोगों को नहीं मिलती है. अगर हम पूरे भूभाग में शांति चाहते हैं भारत को सामर्थ्यवान बनना होगा. 40 साल से आतंकी मारते थे. हम कहते थे.. जहां आतंकियों को दाना पानी मिलता है हमने वहां टार्गेट किया है. हमने गांधी के साथ अन्याय किया है. गांधी की आज भी दुनिया के प्रासंगिक हैं शांति के लिए.

आपको कई अवार्ड मिले
हमारे पास राग दरबारी लोग नहीं हैं.. ना ही लुटियन लोग है.. हम मेहनत करते हैं.. हम तो देश की मान सम्मान के लिए काम करते हैं.

सुप्रीम कोर्ट के जजों पर निजी हमले पर क्या कहेंगे?
ये सारे मसले गंभीर हैं. 9 घंटे पुलिस के सामने बैठाया गया. और मैं मानता हूं कि चीफ जस्टिस के खिलाफ जो किया गया गया जो मैंने मीडिया के माध्यम से जाना वो गलत है.

इलेक्शन कमीशन पर क्या कहेंगे
इस गैंग ने इलेक्शन कमीशन को फंसा रखा है. इलेक्शन कमीशन पर लुटियन दिल्ली ने कब्जा कर लिया है.

आपको कड़े फैसलों पर औऱ अनकंवेशनल फैसलों के लिए जाना जाता है
मैं कोई भी निर्णय करने से पहले व्यापक मंथन करता हूं. सभी से साथ मिलकर फैसला करता हूं.. पुलवामा के पहले भी कहा था... पहली सर्जिकल स्ट्राइक के पहले केरल में कहा था. नोटबंदी के पहले संसद में बोला था.. लेकिन पहले के नेताओं के हिसाब से आपने सोचा.

आपके मंत्रियों के भी नोटबंदी के बारे में नहीं पता था
सबको पता था काले धन को लेकर मोदी कुछ करने वाला है. लेकिन स्पेसिफिक नहीं था. स्पैसिफिक चीजों के बारे में अगर बताएंगे तो क्राइम होगा. जैसे बजट अगर लीक हो जाए तो क्राइम होगा. हमें सीक्रेसी का शपथ लेनी होती है. ये संवैधानिक काम है

अगले टर्म पर क्या कहेंगे?
2014 में नया था. आज मेरे पास पांच साल का अनुभव है.. अब मुझे आखिरी नतीजे तक ले जाना है.. लेकिन मैं निरंतर गति बढ़ाते जाना चाहूंगा. हिंदुस्तान को ग्लोबल प्लेयर के रूप में ले जाना चाहूंगा.

मीडिया से शिकायत पर
मुझे कोई शिकायत नहीं.. मुझे आप लोगों के साथ गुजारा करना है कोई शिकायत नहीं है.