close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

वाराणसी में पीएम मोदी ने 'अभिजीत मुहूर्त' में किया नामांकन, जानिए क्या है खास

पीएम मोदी की जन्‍म और नाम राशि, दोनों ही वृश्चिक है और इस राशि में 24 अप्रैल से गुरु बृहस्‍पति के आने का विशेष महत्‍व है. वृहस्‍पति के राशि परिवर्तन का असर चुनाव में भी दिखेगा. 

वाराणसी में पीएम मोदी ने 'अभिजीत मुहूर्त' में किया नामांकन, जानिए क्या है खास

वाराणसीः लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha elections 2019) के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को 11.30 बजे के बाद वाराणसी संसदीय सीट से नामांकन भरा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पर्चा दाखिले के लिए दिन-तारीख और योग तय करने के बाद वाराणसी के पंडितों ने शुभ मुहूर्त भी निकाला था. प्रधानमंत्री 26 अप्रैल को कार्य सिद्धि के लिए सबसे प्रभावी व शुभ 'अभिजीत मुहूर्त' में नामांकन पत्र जमा किया. इससे पहले पीएम मोदी ने काशी के कोतवाल बाबा कालभैरव के दर्शन करने के बाद सीधे कलेक्ट्रट सभागार स्थित रायसेन क्लब में मौजूद रहे. 

हिन्दू धर्म में शुभ मुहूर्त में कोई नया कार्य होता है लाभकारी
साध्‍य योग के साथ भद्रा काल न होना और सभी ग्रह-नक्षत्र अनुकूल होने से नामांकन का दिन व समय बेहद शुभकारी है.नरेंद्र मोदी वाराणसी से दूसरी बार चुनाव लड़ने जा रहे हैं.वर्ष 2014 के चुनाव में तो उन्‍होंने नामांकन के दिन व समय को लेकर वाराणसी के ज्‍योतिषियों की सलाह नहीं मानी थी, लेकिन इस बार ऐसा नहीं है. बनारसी पंडितों पर भरोसा कर उन्‍होंने 26 अप्रैल का दिन तय किया तो अब उनके बताए अभिजीत मुहूर्त में ही कलेक्‍ट्रेट के रायफल क्‍लब स्थित नामांकन स्‍थल पर पहुंचे.

क्‍यों खास है अभिजीत मुहूर्त
काशी हिन्‍दू विश्‍वविद्यालय (बीएचयू) के ज्‍योतिष विभागाध्‍यक्ष प्रोफेसर विनय कुमार पांडेय के मुताबिक शुक्रवार को साध्‍य योग के बीच अभिजीत मुहूर्त सुबह 11.36 से दोपहर 12.24 के बीच है. यह मुहूर्त सूर्योदय से सूर्यास्‍त तक के बीच के 15 मुहूर्तों में से आठवें नंबर का और सबसे अच्‍छा होता है. आकाश मंडल में मध्‍य की स्थिति में होने से इसे स्‍वयं सिद्ध माना जाता है. 

यह भी पढ़ें- PM मोदी एक मई को जाएंगे अयोध्या, क्‍या रामलला के दर्शन के लिए जाएंगे

इसकी विशिष्‍टता यह भी है कि बिना विशेष योग के भी इस मुहूर्त में किया गया फलदायी होता है. साध्‍य योग ने नामांकन के दिन को और शुभकारी बनाया है.

गुरु बृहस्‍पति का दिखेगा असर
ज्‍योतिषी विमल जैन का कहना है कि पीएम मोदी की जन्‍म और नाम राशि, दोनों ही वृश्चिक है और इस राशि में 24 अप्रैल से गुरु बृहस्‍पति के आने का विशेष महत्‍व है. वृहस्‍पति के राशि परिवर्तन का असर चुनाव में भी दिखेगा. गुरु बृहस्‍पति की कृपा से ही व्‍यक्ति को राजयोग मिलता है. इसी तरह काशी में कोई भी शुभ काम शुरू करने से पहले दंड के अधिकारी और कल्‍याण करने वाले बाबा कालभैरव के दर्शन से मनोकामना तो पूरी होती ही है. उनकी कृपा से हर तरह के कष्‍ट, दोष व नजर बाधा तक दूर हो जाती है. यह भी मान्‍यता है कि कालभैरव के दर्शन मात्र से यम के दंड से बचा जा सकता है.