मुंबई की रैली में पीएम मोदी का हमला, बोले-कन्‍फ्यूजन का दूसरा नाम कांग्रेस है

लोकसभा चुनाव 2019 का प्रचार करने पीएम मोदी शुक्रवार को मुंबई पहुंचे. उन्‍होंने चुनावी रैली में पीएम मोदी ने उद्धव ठाकरे को छोटा भाई कहा. इस मौके पर चुनावी रैली में उन्‍होंने कहा, 5 वर्ष में आपने अनुभव किया है कि भ्रष्टाचार की खबरें अखबार से गायब हो गई हैं. भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए हमने कई कदम उठाए हैं,

मुंबई की रैली में पीएम मोदी का हमला, बोले-कन्‍फ्यूजन का दूसरा नाम कांग्रेस है

मुंबई: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को मुंबई पहुंचे. यहां उन्‍होंने एक चुनावी रैली की शुरुआत अपने चिरपरिचित अंदाज में मराठी भाषा में की. उन्‍होंने कसा काय मूम्बई बोलकर भाषण की शुरुवात की. उन्होंने उद्धव ठाकरे को छोटा भाई कहा. इस मौके पर चुनावी रैली में उन्‍होंने कहा, 5 वर्ष में आपने अनुभव किया है कि भ्रष्टाचार की खबरें अखबार से गायब हो गई हैं. भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए हमने कई कदम उठाए हैं, जिससे कुछ लोग जेल में हैं और कुछ लोग बेल पर हैं. उन्‍होंने कहा, कांग्रेस की पूरी राजनीति और रणनीति अतीत की यादों पर टिकी हुई है और इसलिए अब कांग्रेस कन्फ्यूजन का दूसरा नाम हो गई है.

उन्‍होंने कहा, ये चुनाव गरीबों की उम्मीदे पूरा कर उसे अवसर देने जा रहा है. आज देश मे जो लहर है, उससे कुछ लोग परेशान हैं. फर्स्ट वोटर मोदी के साथ क्यों खड़ा है. इसीलिये कुछ लोग माथा खपाये हुए हैं. 20 के आखिरी या 21 सदी में जो वोटर पैदा हुआ है, वह अपने सपनों के साथ खड़ा है. देश का यूथ 1947 में मिली आजादी से प्रेरणा लेकर 2047 की तरफ देखता है, जब देश आजादी के 100 साल मनाएगा. 2019 के लोकसभा चुनाव के नतीजों को लेकर सभी एकमत हैं.

PM मोदी ने कहा, देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस को खत्म करने की बात महात्मा गांधी ने कही थी. उसके बारे में सारे सर्वे बताते हैं कि इस चुनाव में कांग्रेस 44 का आंकड़ा पार कर 50 तक पहुंचेगी या 40 तक सिमट जाएगी. तीन चरण के बाद एनडीए की सरकार बननी तय है. मुंबई के लोग हवा का रुख पकड़ने में माहिर हैं. उन्हें भनक लग जाती है. समझदारी किसके साथ जाने में है जो ज्यादा से ज्यादा 50 सीट तक जाएगी. या फिर समझदारी उस पार्टी के साथ जो एक एक वोट से और मजबूत सरकार बनाएगी. समझदारी अपना वोट सही जगह लगाने में है.

प्रधानमंत्री ने कहा, चर्चा इस बात की है कि 282 का रिकॉर्ड क्या तोड़ पायेगा. महायुति के लोग सबसे ज्यादा सीट लेकर आ रहे हैं यह सर्वे बोल रहा है. महायुति के लोग सबसे ज्यादा सीट लेकर आ रहे हैं. आने वाले 5 साल काफी अहम हैं. आजादी के बाद कांग्रेस को सबसे कम सीट 2014 में मिली थीं. इस बार 2019 मे कांग्रेस पार्टी सबसे कम सीट लडेगी. 2014 में सबसे कम सीट पाने का रिकॉर्ड बनाया था.

भारत के लिए पांच साल कल्पनातीत अवसरों से भरा है.. ये मौका जाने नहीं देना चाहिए. कांग्रेस की पूरी राजनीति और रणनीति अतीत की यादों पर टिकी है. इसलिए कांग्रेस अब कन्फ्यूजन का दूसरा नाम है.. इन्हे लगता है आज की डिजीटल जनरेशन आज जब वो जिंदगी मोबाइल फोन में जी सकता है.. लेकिन उनकी सोच वंशवाद की है.. वो नहीं समझते कि दुनिया बदल चुकी है. कांग्रेस की राजनीति अतीत के यादों पर टिकी है, कांग्रेस confusion का दूसरा नाम है.