close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

शिवसेना में शामिल हुईं प्रियंका चतुर्वेदी, कहा- 'कांग्रेस ने मेरा कभी सम्‍मान नहीं किया'

प्रियंका चतुर्वेदी ने कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता और पार्टी के मीडिया सेल के संयोजक पद से इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा सोनिया गांधी और राहुल गांधी को भेजा है.

शिवसेना में शामिल हुईं प्रियंका चतुर्वेदी, कहा- 'कांग्रेस ने मेरा कभी सम्‍मान नहीं किया'
शिवसेना में शामिल हुईं प्रियंका चतुर्वेदी.

नई दिल्‍ली : प्रियंका चतुर्वेदी ने कांग्रेस से इस्‍तीफा देने के बाद शुक्रवार को शिवसेना ज्‍वाइन कर ली है. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मुंबई में प्रेस कांफ्रेंस करके प्रियंका चतुर्वेदी के पार्टी ज्‍वाइन कर लेने का ऐलान किया. साथ ही उन्‍हें सदस्‍यता भी दिलाई. प्रियंका ने शिवसेना ज्‍वाइन करने के बाद उद्धव ठाकरे का आभार जताया.

कांग्रेस छोड़ शिवसेना में शामिल हुईं प्रियंका चतुर्वेदी, उद्धव ठाकरे ने किया ऐलान

उन्‍होंने कहा है, 'शिवसेना में शामिल होने से पहले मैंने इस पर काफी सोच विचार किया है. मैंने महिलाओं के सम्‍मान के लिए कांग्रेस छोड़ी है. टिकट के लिए पार्टी नहीं छोड़ी है. कांग्रेस ने मेरा कभी सम्‍मान नहीं किया.' उन्‍होंने क‍हा कि मैंने मथुरा से कांग्रेस का टिकट नहीं मांगा था. बदसलूकी से नाराज होकर कांग्रेस छोड़ी है.

इससे पहले शिवसेना नेता संजय राउत ने दावा किया था कि प्रियंका चतुर्वेदी आज शिवसेना ज्‍वाइन करने वाली हैं. बता दें कि प्रियंका चतुर्वेदी ने कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता और पार्टी के मीडिया सेल के संयोजक पद से इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा सोनिया गांधी और राहुल गांधी को भेजा है.

 


प्रियंका चतुर्वेदी का पत्र. फोटो ANI

इससे पहले कांग्रेस प्रवक्‍ता प्रियंका चतुर्वेदी ने अपने ट्विटर अकाउंट में से प्रवक्‍ता पद हटा दिया था. साथ ही उन्‍होंने कांग्रेस का वाट्सएप ग्रुप (AICC online media) भी छोड़ दिया था. इससे पार्टी के खिलाफ उनकी नाराजगी और कांग्रेस छोड़ने की अटकलें तेज हो गई थीं.


प्रियंका चतुर्वेदी का twitter अकाउंट.

बता दें कि 17 अप्रैल को कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने अपने साथ कथित तौर पर बदसलूकी करने वाले मथुरा के कुछ पार्टी कार्यकर्ताओं के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई निरस्त किए जाने का विरोध करते हुए दावा किया था कि ऐसे लोगों को प्राथमिकता दिए जाना दुख की बात है.

प्रियंका ने ट्वीट कर कहा, ‘‘बड़े ही दुख की बात है कि पार्टी खून-पसीना देकर काम करने वालों की बजाय मारपीट करने वाले गुंडों को अधिक वरीयता देती है. पार्टी के लिए मैंने अभद्र भाषा से लेकर हाथापाई तक झेली, लेकिन फिर भी जिन लोगों ने मुझे पार्टी के अंदर धमकी दी, उनके साथ कोई भी ठोस कार्रवाई नहीं हुई. यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण हैं.'