close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: पार्टियों को महिलाओं पर नहीं है भरोसा, चुनाव में कम हुई उम्मीदवार की संख्या

केवल इस बार ही महिलाओं को नरअंदाज नहीं किया गया, बल्कि पिछले लोकसभा चुनाव के आकंड़े उठाकर देखें तब भी यही तस्वीर दिखाई देती है. सबसे पहले बात करते हैं 2009 के लोकसभा चुनाव की.

राजस्थान: पार्टियों को महिलाओं पर नहीं है भरोसा, चुनाव में कम हुई उम्मीदवार की संख्या
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर: चुनाव में भले ही महिलाओं को आरक्षण दिए जाने पर जोर दिया जा रहा हो लेकिन इसके बावजूद भी मुख्य पार्टियां महिलाओं पर केवल 12 से 16 फीसदी तक ही भरोसा कर रही हैं. राजस्थान में हुए पिछले लोकसभा चुनाव की अपेक्षा इस बार 4 महिला उम्मीदवारों की संख्या कम हो गई है.

राजस्थान के लोकसभा चुनाव में 249 उम्मीदवार अपनी किस्मत और भाग्य जरूर आजमा रहे हैं लेकिन इस बार सबकी निगाहे 23 महिला उम्मीदवारों पर रहेगी. प्रदेश में 25 लोकसभा सीटों पर हो रहे चुनाव के लिए पहले चरण में 7 और दूसरे चरण में 16 महिला उम्मीदवार चुनावी मैदान में है. 

जिसमें से बीजेपी की तीन और कांग्रेस की चार महिला प्रत्याशी लोकसभा का चुनाव लड़ रही हैं. महिलाओं को 33 फीसदी आरक्षण का वादा करने वाली देश की मुख्य पार्टियां हकीकत में अपने दावों से बहुत दूर दिखाई दे रही हैं. इस बार राजस्थान में कांग्रेस ने केवल 16 फीसदी और बीजेपी ने 12 फीसदी महिलाओं को टिकट दिया है.

केवल इस बार ही महिलाओं को नजरअंदाज नहीं किया गया, बल्कि पिछले लोकसभा चुनाव के आकंड़े उठाकर देखें तब भी यही तस्वीर दिखाई देती है. सबसे पहले बात करते हैं 2009 के लोकसभा चुनाव की. उस वक्त राजस्थान की 31 महिलाओं ने भाग्य आजमाया, जिनमें से केवल तीन विजयी होकर संसद तक पहुंच पाई थी. 

इसके बाद 2014 में 27 महिलाओं ने चुनाव लड़ा. जिसमें से बीजेपी ने 1 और कांग्रेस ने पांच महिला उम्मीदवारों पर विश्वास जताया था, जिनमें से बीजेपी की एक महिला प्रत्याशी ने जीत हासिल की. इस बार महिला उम्मीदवारों की संख्या 23 तक ही सिमट गई है. इस बार कांग्रेस ने 4 और बीजेपी ने 3 महिला उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है.

प्रदेश में 1952 से 2014 तक हुए 16 लोकसभा चुनावों में मतदाताओं ने केवल 28 बार महिलाओं को चुनाव जिताया है. अब महिला उम्मीदवारों की बात कर रहे हैं तो बता दें, 1962 के चुनाव में जयपुर की लोकसभा सीट से एक साथ 4 महिलाएं चुनावी मैदान में उतरी थी.