RJD नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी का एलान, 'दरभंगा से ही लड़ूंगा लोकसभा का चुनाव'

कांग्रेस की ओर से दरभंगा सीट पर हो रही दावेदारी पर सिद्दिकी ने कुछ भी बोलने से साफ इनकार किया है. उन्होंने कहा कि कौन क्या दावा कर रहा है इसपर उन्हें कोई टिप्पणी नहीं करनी है. 

RJD नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी का एलान, 'दरभंगा से ही लड़ूंगा लोकसभा का चुनाव'
अब्दुल बारी सिद्दीकी ने की दरभंगा से चुनाव लड़ने की घोषणा. (फाइल फोटो)

दरभंगा : बिहार की दरभंगा लोकसभा सीट को लेकर कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के बीच चल रही खींचतान में नया मोड़ आ गया है. आरजेडी नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी ने दरभंगा सीट से चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है. सिद्दीकी ने कहा है कि दरभंगा सीट से मेरे चुनाव लड़ने का फैसला पार्टी का फैसला है.

दरभंगा सीट पर आखिरकार आरजेडी के वरिष्ठ नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी ने दावा ठोक दिया है. कांग्रेस की ओर से भी दरभंगा सीट पर दावेदारी की जा रही थी. कांग्रेस वर्तमान सांसद कीर्ती झा आजाद को दरभंगा से टिकट देने पर अड़ी हुई है. कांग्रेस का दावा है कि दरभंगा सीट कांग्रेस की पारंपरिक सीट रही है, लेकिन आरजेडी नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी ने कांग्रेस के दावों को खारिज कर दिया है.

सिद्दीकी इस मामले पर खुलकर बोलने से परहेज कर रहे हैं, लेकिन उन्होंने साफ तौर पर कहा है कि मधुबनी सीट ही उनकी पारंपरिक सीट रही है, लेकिन पार्टी ने उन्हें दरभंगा से चुनाव लड़ने के लिए कहा है. मधुबनी से चुनाव नहीं लडने को लेकर उन्हें मलाल जरुर रहेगा. अब्दुल बारी सिद्दिकी ने कहा है कि अगर पार्टी चुनाव नहीं लड़ने के लिए बोलेगी तो वो चुनाव नहीं लडेंगे. अगर कहेगी तो चुनाव लड़ेंगे.

कांग्रेस की ओर से दरभंगा सीट पर हो रही दावेदारी पर सिद्दिकी ने कुछ भी बोलने से साफ इनकार किया है. उन्होंने कहा कि कौन क्या दावा कर रहा है इसपर उन्हें कोई टिप्पणी नहीं करनी है. दरभंगा सीट पर उनके चुनाव लड़ने पर कांग्रेस और कीर्ती झा आजाद की ओर से समर्थन नहीं मिलने पर सिद्दिकी ने कहा कि कांग्रेस महागठबंधन में है और मेरे चुनाव लड़ने का फैसला महागठबंधन की सहमति से ही होगा. जहां तक कीर्ति आजाद की बात है तो कोई भी व्यक्ति संगठन से बड़ा नहीं होता है. संगठन का फैसला ही हर नेता को मान्य होता है.

वहीं, दरभंगा सीट को लेकर आरजेडी और कांग्रेस में फंसी पेंच पर जेडीयू ने चुटकी ली है. जेडीयू एमएलसी दिलीप चौधरी ने कहा है कि आरजेडी और कांग्रेस दोनों ही ठगबंधन की राजनीति कर रहे हैं. दोनों का इरादा एक दूसरे को ठगना ही है. बिहार में कांग्रेस का कोई वजूद नहीं. आरजेडी जो कहेगी कांग्रेस को मानना होगा.