शिवपाल बोले, 'एसपी-बीएसपी गठबंधन से सतर्क रहने की आवश्यकता है'

शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि यह गठबंधन समाज के किसान, युवा, व्यापारी, महिलाओं और अल्पसंख्यक सहित हर वर्ग से विश्वासघात कर रहा है.

शिवपाल बोले, 'एसपी-बीएसपी गठबंधन से सतर्क रहने की आवश्यकता है'
शिवपाल फिरोजाबाद लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. (फाइल फोटो)

फिरोजाबाद (उत्तरप्रदेश): प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने शुक्रवार को एसपी-बीएसपी गठबंधन पर हमला बोलते हुए जनता को आगाह किया कि वह इनसे सतर्क रहे क्योंकि ये लोग झूठ और अफवाह फैलाने में माहिर हैं.

शिवपाल ने एक चुनावी जनसभा में कहा, 'एसपी-बीएसपी गठबंधन से सतर्क रहने की आवश्यकता है क्योंकि ये लोग झूठ और अफवाह फैलाने में माहिर हैं. यह गठबंधन समाज के किसान, युवा, व्यापारी, महिलाओं और अल्पसंख्यक सहित हर वर्ग से विश्वासघात कर रहा है.' 

बता दें शिवपाल फिरोजाबाद लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र का विकास उनकी प्राथमिकता होगी. उन्होंने कहा कि फिरोजाबाद के लोगों को यहां के कांच उद्योग का संरक्षण करना होगा. शिवपाल ने सपा सांसद अक्षय यादव पर आरोप लगाया कि उन्होंने इस क्षेत्र के मुददों की अनदेखी की है . उन्होंने फिरोजाबाद के चहुंमुखी विकास के लिए कार्य करने का वायदा किया.

मायावती ने मुलायम सिंह के साथ साझ किया मंच
इससे पहले शुक्रवार को बरसों पुरानी दुश्मनी भूल कर बीएसपी प्रमुख मायावती और एसपी संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने मैनपुरी में चुनावी रैली के दौरान मंच साझा किया. मायावती ने मुलायम को जिताने की अपील करते हुए उन्हें ‘असली नेता’ करार दिया.

मायावती ने मैनपुरी लोकसभा सीट से सपा प्रत्याशी मुलायम सिंह यादव को जिताने की अपील करते हुये कहा, 'इस गठबंधन के तहत मैं मैनपुरी में खुद मुलायम के समर्थन में वोट मांगने आई हूं. जनहित में कभी-कभी हमें कुछ कठिन फैसले लेने पड़ते हैं. देश के वर्तमान हालत को देखते हुए यह फैसला लिया गया है.'

उन्होंने कहा, 'आप मुझसे जानना चाहेंगे कि 2 जून 1995 के गेस्टहाउस कांड के बाद भी सपा-बसपा गठबंधन कर चुनाव क्यों लड़ रहे हैं ? इस गठबंधन के तहत मैं मैनपुरी में खुद मुलायम के समर्थन में वोट मांगने आई हूं. जनहित तथा पार्टी के मूवमेंट के लिए कभी-कभी हमें कुछ कठिन फैसले लेने पड़ते हैं. देश के वर्तमान हालत को देखते हुए यह फैसला लिया गया है. मेरी अपील है कि पिछड़ों के वास्तविक नेता मुलायम सिंह यादव को चुनकर आप संसद भेजें. उनके उत्तराधिकारी अखिलेश यादव अपनी जिम्मेदारी पूरी निष्ठा से निभा रहे हैं .'  

मंच पर मुलायम सिंह के पहुंचने पर मायावती ने खड़े होकर उनका स्‍वागत किया.