हरदोई के बाद इटावा के सांसद ने भी बदली पार्टी, BJP छोड़ मिलाया कांग्रेस से 'हाथ'

इटावा से बीजेपी के सांसद अशोक दोहरे ने दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात कर कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की.

हरदोई के बाद इटावा के सांसद ने भी बदली पार्टी, BJP छोड़ मिलाया कांग्रेस से 'हाथ'
बीजेपी ने इटावा से अशोक दोहरे का टिकट काट दिया, जिसके बाद से वह नाराज थे.

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी की मुश्किलें कम होने का नाम ले रही हैं. टिकट न मिलने से से नाराज इटावा संसदीय क्षेत्र से बीजेपी के सांसद अशोक कुमार दोहरे शुक्रवार (29 मार्च) को कांग्रेस में शामिल हो गए हैं. दोहरे ने शुक्रवार को सुबह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात कर कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की. इस मौके पर पार्टी महासचिव एवं पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कई अन्य नेता मौजूद थे. 

इटावा से बीजेपी के सांसद अशोक दोहरे ने दिल्ली में कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की. दरअसल, बीजेपी ने इटावा से अशोक दोहरे का टिकट काट दिया, जिसके बाद से वह अपनी पार्टी से नाराज चल रहे थे. टिकट कांटे जाने के बाद से ये अटकले लगाए जा रहे थे कि वह किसी दूसरे दल में शामिल हो सकते हैं. 

इटावा से बीजेपी ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और आगरा से सांसद रामशंकर कठेरिया को प्रत्याशी घोषित किया है. वहीं, बीजेपी ने आगरा से योगी आदित्यनाथ सरकार के मंत्री प्रोफेसर एसपी सिंह बघेल को मैदान में उतारा है. नाराज बीजेपी नेताओं के चलते लोकसभा चुनाव 2019 उत्तर प्रदेश में बीजेपी के लिए चुनौतीपूर्ण होता जा रहा है. क्‍योंकि टिकट वितरण के बाद जिन सांसदों का टिकट कट रहा है, उसमें से ज्‍यादातर दूसरी पार्टी की ओर रूख कर रहे हैं. 

 

आपको बता दें कि दलित सांसद सांसद अशोक दोहरे अपनी ही पार्टी की राज्य सरकार से हुए नाराज होकर पीएम मोदी को चिट्ठी लिखकर लाइमलाइट में आए थे. अप्रैल 2018 में यूपी की योगी सरकार से नाराज होकर पीएम मोदी को चिट्ठी लिखी थी. इसमें अशोक दोहरे ने कहा था कि 2 अप्रैल 2018 को ‘भारत बंद’ के बाद एससी/एसटी वर्ग के लोगों को उत्तर प्रदेश सहित दूसरे राज्यों में सरकारें और स्थानीय पुलिस झूठे मुकदमे में फंसा रही है उन पर अत्याचार हो रहा है. अशोक दोहरे का ये पत्र बाद में मीडिया में सार्वजनिक हो गया था.