सुल्तानपुर लोकसभा सीट: मेनका गांधी मतदाताओं को दिला रही हैं संजय गांधी की याद

एक नुक्कड़ सभा को संबोधित को संबोधित करते हुए उन्होंने संजय गांधी की याद दिलाते हुए कहा कि 20 साल की उम्र में ही वह सुल्तानपुर आई थी और उसके बाद से ही सुल्तानपुर से उनका जोकि आज तक नहीं टूटा. 

सुल्तानपुर लोकसभा सीट: मेनका गांधी मतदाताओं को दिला रही हैं संजय गांधी की याद
सुल्तानपुर लोकसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी मेनका गांधी की फाइल फोटो.

सुल्तानपुर, शादाब सिद्दिकी​: सुल्तानपुर में मेनका गांधी के सामने कांग्रेस के पुराने नेता संजय सिंह उम्मीदवार हैं. वहीं, सपा-बसपा गठबंधन से सोनू सिंह ताल ठोक रहे हैं. खास बात यह है कि मेनका गांधी ने इस बार अपनी सीट बदल ली है. इससे पहले वह पीलीभीत से सांसद थी जबकि सुल्तानपुर सीट से उनके बेटे वरुण गांधी सांसद थे. लेकिन इस बार अदला-बदली में वरुण गांधी पीलीभीत पहुंच गए हैं जबकि मेनका गांधी सुल्तानपुर से किस्मत आजमा रही हैं.

एक नुक्कड़ सभा को संबोधित को संबोधित करते हुए उन्होंने संजय गांधी की याद दिलाते हुए कहा कि 20 साल की उम्र में ही वह सुल्तानपुर आई थी और उसके बाद से ही सुल्तानपुर से उनका जोकि आज तक नहीं टूटा. मेनका गांधी मतदाताओं से कहा वह चाहे तो पीलीभीत जाकर पता कर ले कि वहां उनका व्यवहार और कामकाज कैसा था, उन्होंने कहा कि वह वादा करती हैं कि अगर वह जीतेंगी तो हर महीने 20 से 25 गांव का दौरा करेंगे और यहां की समस्याओं को सुलझाएं. 

ज़ी मीडिया से बातचीत करते हुए मेनका गांधी ने कहा कि वह नरेंद्र मोदी के नाम पर वोट मांग रही है, लेकिन यहां जो विकास काम हुए हैं जनता उसको देखकर वोट देगी. उन्होंने कांग्रेस के प्रत्याशी संजय सिंह पर किसी भी टिप्पणी से इंकार कर दिया. 

 

सपा-बसपा गठबंधन के बाहुबली प्रत्याशी सोनू सिंह के बारे में उन्होंने कहा कि यहां की जनता शांतिप्रिय है और लोग चाहते हैं कि वह अपनी जिंदगी अपने मुताबिक जी सके और उनकी स्वतंत्रता में किसी तरह का दखल न हो. इसलिए ऐसे लोगों को जनता पसंद नहीं करते हैं.

हल्की मेनका गांधी को लेकर एक बार विवाद हो चुका था इसलिए वह तमाम मुद्दों पर संभल कर बोलती हैं और कम शब्दों में अपना जवाब देती है. गोमती किनारे बसे सुल्तानपुर लोकसभा क्षेत्र में पांच विधानसभा सीटें आती हैं. इनमें इसौली, सुल्तानपुर, सदर, कादीपुर (सुरक्षित) और लम्भुआ सीटें आती हैं. मौजूदा समय में इनमें चार सीटों पर बीजेपी का कब्जा हैं और महज एक सीट इसौली सपा के पास है.

साल 2014 का जनादेश
2014 के लोकसभा चुनाव में सुल्तानपुर सीट पर 56.64 फीसदी मतदान हुए थे. इस सीट पर बीजेपी उम्मीदवार वरुण गांधी ने बसपा उम्मीदवार पवन पाण्डेय को 1 लाख 78 हजार 902 वोटों से मात दी थी. इस तरह 1998 के बाद बीजेपी इस सीट पर कमल खिलाने में कामयाब हुई थी. वहीं, कांग्रेस उम्मीदवार जमानत भी नहीं बचा पाया था.