मोदी कैबिनेट से इनका कट सकता है पत्ता! इन सांसदों की लग सकती है लॉटरी

मोदी कैबिनेट से इनका कट सकता है पत्ता! इन सांसदों की लग सकती है लॉटरी

जिन सांसदों के मंत्री बनने की चर्चा है उन्हें प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की ओर फोन भी पहुंचना शुरू हो गए हैं. लेकिन कुछ ऐसे भी नाम है जिन्हें अभी तक की जानकारी के मुताबिक पीएमओ से फोन नहीं पहुंचा है. 

मोदी कैबिनेट से इनका कट सकता है पत्ता! इन सांसदों की लग सकती है लॉटरी

नई दिल्‍ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह से कुछ घंटे पहले उनके नए मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले संभावित चेहरों के नाम सामने आ गए हैं. लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि इन नामों में कुछ ऐसे नाम भी है जो साल 2014 में बनी मोदी सरकार में शामिल रहे हैं. लेकिन इस बार उनके नामों की अभी तक कोई चर्चा नहीं है. ऐसे ही कुछ अहम नामों के बारे में हम आपको बताना चाहते है. जिन सांसदों के मंत्री बनने की चर्चा है उन्हें प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की ओर फोन भी पहुंचना शुरू हो गए हैं. लेकिन कुछ ऐसे भी नाम है जिन्हें अभी तक की जानकारी के मुताबिक पीएमओ से फोन नहीं पहुंचा है और कुछ ऐसे भी है जिन्हें पहली बार मंत्री पद मिलने जा रहा है. 

मोदी सरकार में दूसरी बार बनेंगे मंत्री 
सुषमा स्‍वराज, राजनाथ सिंह, रविशंकर प्रसाद, किरन रिजिजु,  सदानंद गौड़ा, नरेंद्र सिंह तोमर, प्रकाश जावड़ेकर, अर्जुनराम मेघवाल, जितेंद्र सिंह, राम विलास पासवान, पीयूष गोयल,मुख्‍तार अब्‍बास नकवी, हरसिमरत कौर,बाबुल सुप्रियो, स्‍मृति ईरानी, निर्मला सीतारमण,थावरचंद गहलोत,किशन पाल गुर्जर,साध्‍वी निरंजन ज्‍योति, गजेंद्र शेखावत, रामदास अठावले, धर्मेंद्र प्रधान, पुरुषोत्‍तम रुपाला, गिरिराज सिंह, संजीव बालियान, वीके सिंह, हरदीप पुरी

मोदी सरकार में पहली बार बनेंगे मंत्री
जी किशन रेड्डी, सुरेश अंगड़ी,प्रह्लाद जोशी, रमेश पोखरियाल निशंक, प्रह्लाद पटेल, कैलाश चौधरी, आरसीपी सिंह (जनता दल यूनाइटेड), श्रीपद नाईक, अरविंद सावंत

जिनका अभी तक नहीं आया नाम
राज्यवर्धन सिंह राठौर, महेश शर्मा, मनोज सिन्हा, उमा भारती, जेपी नड्डा, डॉ हर्षवर्धन, हंसराज अहीर,  विजय गोयल, एसएस आहलूवालिया,  शिव प्रताप शुक्ला, राम कृपाल यादव, अश्चिनी चौबे, एमजे अकबर, कृष्णा राज, अजय टम्टा, सत्यपाल सिंह, सुभाष भामरे

सूत्रों के मुताबिक पीएम मोदी की नई कैबिनेट में 65 से 70 मंत्री शामिल हो सकते हैं. इनमें शिवसेना और जदयू से 2-2 मंत्री बन सकते हैं. अकाली दल और लोजपा से भी 1-1 मंत्री बनना संभावित है. वहीं एआईएडीएमके से भी 1 मंत्री बनाया जा सकता है.

Trending news