गुजरात: छोटे भाई ने कहा, 'अगर मेरे बड़े भाई को फिर से BJP से टिकट मिला तो मैं पार्टी छोड़ दूंगा'

गुजरात के वलसाड में दो सगे भाइयों में टिकट को लेकर ठन गई है. छोटे भाई ने साफ कह दिया है कि अगर बड़े भाई को बीजेपी फिर से टिकट देती है तो वह पार्टी से इस्तीफा दे देंगे. वलसाड से केसी पटेल बीजेपी से सांसद हैं. 

गुजरात: छोटे भाई ने कहा, 'अगर मेरे बड़े भाई को फिर से BJP से टिकट मिला तो मैं पार्टी छोड़ दूंगा'
वलसाड से बीजेपी सांसद केसी पटेल के छोटे भाई डॉ. डीसी पटेल ने ही बगावत का झंडा बुलंद कर लिया है.

अहमदाबाद: लोकसभा चुनाव 2019 के लिए टिकट फाइनल होते जा रहे हैं, वैसे-वैसे टिकट न पाने वाले में असंतोष पनपता जा रहा है. गुजरात के वलसाड में दो सगे भाइयों में टिकट को लेकर ठन गई है. छोटे भाई ने साफ कह दिया है कि अगर बड़े भाई को बीजेपी फिर से टिकट देती है तो वह पार्टी से इस्तीफा दे देंगे. वलसाड से केसी पटेल बीजेपी से सांसद हैं. उनके छोटे भाई डॉ. डीसी पटेल ने ही बगावत का झंडा बुलंद कर लिया है. 

डॉ. डीसी पटेल का कहना है, "मैं नाराज हूं क्योंकि पार्टी ने मेरे भाई केसी पटेल को फिर से टिकट देने का फैसला किया है. मैं ही नहीं, बल्कि वलसाड का पूरी आदिवासी आबादी नाखुश है क्योंकि उन्हें पूरा भरोसा था कि बीजेपी इस बार मुझे मौका देगी. लोग बहुत नाखुश हैं क्योंकि मैं सबसे बड़ा दावेदार था, फिर भी मुझे टिकट देने से इनकार कर दिया गया." पटेल ने कहा कि वह जनसंघ के समय से बीजेपी में हैं. 

वलसाड लोकसभा सीट दक्षिण गुजरात के अंतर्गत आती है और अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है. डीसी पटेल को 2009 के लोकसभा चुनाव में टिकट दिया गया था लेकिन वह कांग्रेस उम्मीदवार से 7 हजार वोट से चुनाव हार गए थे. 2014 के चुनाव में, पार्टी ने केसी पटेल को चुनावी मैदान में उतारा. उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार किशनभाई पटेल को पराजित करके बीजेपी को जीत दिलाई. 

 

पटेल ने आगे कहा, "मैं बीजेपी का समर्पित कार्यकर्ता हूं. जब मैंने 2009 का लोकसभा चुनाव लड़ा तब मेरे भाई ने मेरी हार सुनिश्चित करने के लिए बहुत मेहनत की. चूंकि मुझे इस बार टिकट नहीं दिया जा रहा है इसलिए मैंने निष्क्रिय रहने का फैसला किया है. मैं चुनाव प्रचार में भाग नहीं लूंगा. मुझे समझ में नहीं आ रहा कि किस वजह से पार्टी ने फिर से मेरे भाई को टिकट देने का फैसला किया है जो कि कई विवादों में है."

नाराज बीजेपी नेता डीसी पटेल ने कांग्रेस में शामिल होकर चुनाव लड़ने के भी संकेत दिए. कांग्रेस ने अभी तक अपने प्रत्याशी की घोषणा नहीं की है. उन्होंने कहा, "यदि कांग्रेस मुझे टिकट ऑफर करती है तो मैं अपने समर्थकों से परामर्श करके चुनाव लड़ने का निर्णय लूंगा. मैं कांग्रेस से संपर्क नहीं करूंगा लेकिन यदि वे मुझे पेशकश करते हैं तो मैं विचार करूंगा."