close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: दिग्विजय सिंह ने मंच से पूछा मोदी विरोधी सवाल, युवक ने कराई बोलती बंद

भोपाल सीट पर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और बीजेपी प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के बीच कांटे की टक्कर है. सोमवार को दिग्विजय सिंह ने बैरसिया में एक जनसभा को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए सवाल पूछा. लेकिन उनका यह दांव उल्टा पड़ गया. 

VIDEO: दिग्विजय सिंह ने मंच से पूछा मोदी विरोधी सवाल, युवक ने कराई बोलती बंद
युवक से अपेक्षित जवाब न मिलने पर दिग्विजय झल्ला गए.

भोपाल: लोकसभा चुनाव 2019 की जंग बहुत रोचक हो गई है. भोपाल सीट पर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और बीजेपी प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के बीच कांटे की टक्कर है. दोनों ही प्रत्याशियों ने चुनाव प्रचार शुरू कर दिया है. इसी क्रम में दिग्विजय सिंह ने बैरसिया में चुनाव-प्रचार करके वोट मांगे. एक जनसभा में उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए सवाल पूछा. लेकिन उनका यह दांव उल्टा पड़ गया और एक युवक ने उनकी बोलती बंद कर दी.

जनसभा के दौरान, दिग्विजय ने लोगों से पूछा - जिसके खाते में 15 लाख रुपये आ गए हैं वो हाथ उठा दे. एक युवक ने हाथ उठाया. सिंह ने उसकी ओर इशारा करते हुए कहा, "तुम्हारे खाते में आ गए. आ जाओ, इधर आ जाओ. अकाउंट नंबर ले आओ. हम तुम्हारा नागरिक अभिनंदन करेंगे, अगर तुम्हारे खाते में 15 लाख रुपये आ गए हैं. आ जाओ, बेटे इधर आ जाओ." युवक भीड़ से उठकर मंच पर पहुंचा. इसी बीच दिग्विजय ने एक बार फिर से कहा, "क्या आपके खाते में मोदी ने 15 लाख रुपये भिजवा दिए हैं." युवक माइक थामते हुए बोला कि मोदी जी ने सर्जिकल स्ट्राइक करके आतंकियों को मारा. 

  
युवक से अपेक्षित जवाब न मिलने पर दिग्विजय झल्ला गए. इसी बीच एक नेता ने युवक  को मंच से उतार दिया. इसके बाद सिंह झल्लाते हुए बोले, "अरे सर्जिकल स्ट्राइक ने मारा. तुम्हारे खाते में पंद्रह लाख आए कि नहीं आए. क्या तुम्हे रोजगार मिला." दिग्विजय ने युवक को निशाने लेते हुए कहा, "15 लाख रुपये तुम्हारे खाते में आ गए नौकरी भी मिल गई. 

दिग्विजय की राह आसान नहीं
बीजेपी प्रत्याशी के सामने आने से दिग्विजय सिंह की राह मुश्किल बताई जा रही है. भोपाल बीजेपी का अभेद किला है. कांग्रेस 1984 में यहां से अंतिम बार जीती थी यानी पिछले 35 साल से बीजेपी का इस सीट पर कब्जा है. 1989 में सुशील चंद्र शर्मा पहली बार बीजेपी का खाता खोला था. शर्मा 1991, 1996 और 1998 में लगातार जीते और कांग्रेस जीत के लिए तरसती रही. इसके बाद 1999 में उमा भारती ने यहां से चुनावी मैदान में उतरकर जीत हासिल की. 2004 और 2009 में कैलाश जोशी ने कमल खिलाया. 2014 के लोकसभा चुनाव में आलोक संजर चुनाव जीते थे.